समाचार
ज़ोमैटो ने 4,447 करोड़ रुपये में तत्काल किराना वितरण मंच ब्लिंकिट का अधिग्रहण किया

ऑनलाइन फूड डिलीवरी मंच ज़ोमैटो लिमिटेड ने शुक्रवार को कहा कि शेयरों की अदला-बदली के सौदे में वह 4,447.48 करोड़ रुपये की कुल खरीद के साथ ब्लिंक कॉमर्स प्राइवेट लिमिटेड (जिसे पहले ग्रोफर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के नाम से जाना जाता था) का अधिग्रहण करेगा।

ज़ोमैटो ने नियामक फाइलिंग में कहा कि कंपनी के बोर्ड ने शुक्रवार को हुई बैठक में ब्लिंक कॉमर्स प्राइवेट लिमिटेड के शेयर धारकों से 13.45 लाख रुपये प्रति इक्विटी शेयर की कीमत पर 33,018 इक्विटी शेयरों के अधिग्रहण की स्वीकृति दे दी है।

जोमैटो के संस्थापक और सीईओ दीपिंदर गोयल ने कहा, “हम भारत में एक त्वरित वाणिज्य व्यवसाय ब्लिंकिट का अधिग्रहण करने का प्रस्ताव कर रहे हैं, जहाँ हमने गत वर्ष अगस्त में पहली बार निवेश किया था। अगली बड़ी श्रेणी में यह प्रवेश समय पर है क्योंकि हमारा वर्तमान खाद्य व्यवसाय लगातार लाभ की ओर बढ़ता जा रहा है।”

लेन-देन की प्रक्रिया का समापन अगस्त 2022 की शुरुआत में होने की अपेक्षा है, जो शेयरधारकों और स्टॉक एक्सचेंज की स्वीकृति के अधीन है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, हालाँकि, यह सौदा गत वर्ष ब्लिंकिट के 1 अरब डॉलर के मूल्यांकन से लगभग 40 प्रतिशत कम है, जब यह ज़ोमैटो और टाइगर ग्लोबल से 120 मिलियन डॉलर जुटाकर बहुत बड़ा बन गया था।

अलबिंदर ढींडसा द्वारा स्थापित ब्लिंकिट अगले दिन चीजों की आपूर्ति श्रेणी में ऑनलाइन किराना कंपनी बिगबास्केट का बड़ा प्रतिद्वंद्वी था। वर्तमान में अब स्विगी इंस्टामार्ट, रिलायंस समर्थित डंजो, जेप्टो और टाटा के स्वामित्व वाले बिगबास्केट जैसे ब्रांडों का वर्चस्व है।