समाचार
मुख्यमंत्री योगी की वापसी के दो सप्ताह के भीतर लगभग 50 अपराधियों का आत्मसमर्पण

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ की वापसी के 15 दिन के भीतर ही राज्य के लगभग 50 अपराधियों ने आत्मसमर्पण कर दिया है।

ये अपराधी अपने गले में तख्तियाँ लटका कर पुलिस थानों में चले गए, जिसमें लिखा था कि मैं आत्मसमर्पण कर रहा हूँ, कृपया गोली ना चलाएँ।

50 अपराधियों ने ना सिर्फ आत्मसमर्पण किया बल्कि अपराध छोड़ने का संकल्प भी लिया है। इस बीच, दो अपराधियों को मार गिराया गया है, जबकि उनमें से 10 को विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद गिरफ्तार किया गया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के एक लेख में एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार के हवाले से कहा गया, “कानून-व्यवस्था में सुधार और प्रदेश के कोने-कोने में अपराधियों में भय पैदा करने के लिए सूक्ष्म योजना के माध्यम से त्वरित एवं सख्त कार्रवाई की जा रही है।”

उन्होंने आगे कहा, “अपराध के प्रति शून्य सहनशीलता न केवल माफिया पर प्रभावी कार्रवाई के बारे में है बल्कि यूपी-112 द्वारा नए सिरे से सतर्कता और गहन गश्त करना है।”

इस सिलसिले की शुरुआत फरार अपहरणकर्ता और जबरन वसूली करने वाले गौतम सिंह से हुई, जिसने 15 मार्च को गोंडा जिले के छपिया थाने में आत्मसमर्णण किया था। उस दिन से लेकर अब तक अलग-अलग पृष्ठभूमि वाले कई अपराधी राज्य भर में आत्मसमर्पण कर रहे हैं।