समाचार
यशवंत सिन्हा ने तृणमूल कांग्रेस छोड़ी, विपक्ष ने बना दिया राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) नेता यशवंत सिन्हा ने मंगलवार (21 जून) को पार्टी छोड़ने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि अब वह वृहद विपक्षी एकता के व्यापक राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए कार्य करेंगे।

इसके बाद आज हुई बैठक में राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार के तौर पर पूर्व टीएमसी नेता यशवंत सिन्हा के नाम पर मुहर लग गई है। एनसीपी नेता शरद पवार कि अध्यक्षता में विपक्षी दलों की बैठक में यह निर्णय लिया गया। इस बैठक में यशवंत सिन्हा भी मौजूद थे।

इससे पहले विपक्ष ने जिन तीन नामों को आगे किया था उन्होंने उम्मीदवार बनने से मना कर दिया था। इनमें शरद पावर, फारूक अब्दुल्ला और गोपालकृष्ण गांधी का नाम सम्मिलित था।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, यशवंत सिन्हा ने ट्वीट किया, “ममता जी ने जो सम्मान मुझे तृणमूल कांग्रेस में दिया, मैं उसके लिए उनका आभारी हूँ। अब समय आ गया है, जब वृहद विपक्षी एकता के व्यापक राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए मुझे पार्टी से अलग होना होगा। मुझे विश्वास है कि ममता जी इसकी अनुमति देंगी।”

बता दें कि 18 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए अपने संयुक्त उम्मीदवार पर निर्णय करने को विपक्षी दलों की आज दिल्ली में बैठक हुई। मंगलवार सुबह यशवंत सिन्हा के ट्वीट करते ही उनके राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार के रूप में विचार किए जाने के संकेतों को बल मिल गया था।

हालाँकि, उन्होंने अपने ट्वीट से आगे नहीं जाने की बात कही थी। वे देश के विदेश और वित्त मंत्री के रूप में भी कार्य कर चुके हैं।

उन्होंने 2018 में भाजपा को छोड़ दिया था और तृणमूल कांग्रेस के उपाध्यक्ष रहे थे।