दुनिया
आतंकवाद के खिलाफ मिलाएँ हाथ- विश्व भर के कई देश आए भारत के समर्थन में

कश्मीर में सीआरपीएफ जवानों पर पुलवामा में हुए हमले के विरोध में कई देश भारत के समर्थन में खड़े हुए हैं। यूनाइटेड स्टेट्स (यूएस) ने कहा है कि आतंकवाद से लड़ने के लिए वह भारत के साथ खड़ा है।

“भारत में यूएस मिशन कश्मीर हमलों की कड़ी निंदा करता है। शहीदों के परिवारजनों को हमारी सहानुभूति।”, यूएस के राजदूत केन्नेथ जस्टर ने ट्वीट किया। वहीं रूसी दूतावास ने कहा, “आतंकवाद के खिलाफ हमारी नीति स्पष्ट है, हम कोई दोहरी नीति नहीं अपनाते हैं और इसके खिलाफ हम सक्त कार्यवाही में बारत के साथ हैं।”

एंटोनियो गुटेरेस, संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा– “हम पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले कि कड़ी निंदा करते हैं उन लोगों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं जिन्होंने अपनी जान गंवाई और भारत सरकार और भारत के लोगों के प्रति भी हम अपनी सहानुभूति व्यक्त करते हैं।

भारत में फ्रांसीसी राजदूत अलेक्जेंड्रे ज़िग्लर ने कहा– “फ्रांस हमेशा से ही भारत के साथ रहा है और हमेशा आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत का पक्ष लेगा।” भारत के पड़ोसी देशों ने बी समर्थन जताया।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा– “हमारा देश सभी रूपों और अभिव्यक्तियों के आतंकवाद के खिलाफ अपनी प्रतिबद्धता में स्थिर है और किसी भी प्रकार की आतंकवादी गतिविधियों के खिलाफ शून्य सहिष्णुता की नीति रखता है। बांग्लादेश आतंकवाद के खतरे को मिटाने के लिए भारत सहित अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ काम करना और सहयोग करना जारी रखेगा।

श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने भी बयान में कहा– “मैं कश्मीर के पुलवामा जिले में क्रूर आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। 1989 के बाद जम्मूकश्मीर में अब तक का सबसे भयानक आतंकी हमला हुआ है। मैं पीएम मोदी और पुलिस अधिकारियों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता हूँ जिन्होंने इस हमले में अपनी जान गँवाई है।

भूटान के विदेश मंत्री टंडी दोरजी ने कहा- “हम कश्मीर में आतंकी हमले की बात सुनकर हैरान और हताश हैं। हम इस जघन्य हमले की कड़ी निंदा करते हैं और पीड़ितों के परिवारों और भारत के लोगों एवं सरकार के साथ अपनी एकजुटता व्यक्त करते हैं। आशा है अपराधियों को न्याय का पाठ पढ़ाया जाएगा।”