दुनिया
पाकिस्तानी सेना पर दूसरा हमला- बलूचिस्तान विवाद में चार सैनिक मारे गए

पिछले 24 घंटों में बलूचिस्तान में पाकिस्तानी सेना पर यह दूसरा हमला है जहाँ एक सैन्य मुठभेड़ में कुछ अज्ञात लोगों के साथ चार पाकिस्तानी सैनिक मारे गए हैं, डॉन  ने रिपोर्ट किया।

पंजगुर नगर के बाहरी पहा़ी क्षेत्र में दो चौकियों पर शिफ्ट परिवर्तन के दौरान फ्रंठीयर कॉर्पस (एफसी) के चार सैनिक मारे गए। हालाँकि किसी संगठन ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है। इसी प्रकार कुछ घंटों पूर्व ऐसे ही हमले में लोराली में दो जवान मारे गए थे।

ये दो हमले रविवार (17 फरवरी) को बलूचिस्तान में पाकिस्तानी सेना के काफिले पर हुए फिदायीन हमले से ंबंधित हैं जिसमें नौ सैनिक मारे गए और 11 घायल हुए। पुलवामा में भी सीआरपीएफ के काफिले पर हमले के लिए आत्मघाती पद्धति का ही चयन किया गया था।

क्या है बलूचिस्तान विद्रोह?

पाकिस्तान के चार प्रांतों में से सबसे गरीब है बलूचिस्तान और 1948 में स्वायत्त बलूचिस्तान पर पाकिस्तान के कब्ज़े से यहाँ हमेशा विद्रोह की भावना पनपती आई है। लक्षित हत्याएँ, आत्मघाती हमले और अपहरण इस अलगाववादी प्रांत में आम बात है।