दुनिया
भारत और ईरान के बीच पूरक, तरजीही व्यापार समझौता अंतिम दौर में- ईरानी राजदूत

भारत में ईरान के राजदूत अली चेगेनी ने आशा व्यक्त की है कि भारत के साथ एक तरजीही व्यापार समझौते को इस साल के अंत तक अंतिम रूप दिया जा सकता है।

पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, चेगेनी ने बताया, “भारत और ईरान एक दूसरे के व्यापार पूरक हैं। हमारे पास व्यापार को बढ़ाने के लिए बहुत से अवसर मौजूद हैं। ये अवसर केवल चावल, चाय, तेल और गैस तक सीमित नहीं होने चाहिए। इससे परे हज़ारों सामान हैं, जिनका आदान-प्रदान दोनों देश कर सकते हैं।” चेगेनी ने उक्त बातें उद्योग जगत के एक कार्यक्रम में कही।

चेगेनी ने आगे कहा कि समझौते के बारे में बातचीत अंतिम चरण में पहुँच चुकी है और इसे पाँचवें दौर की वार्ता के बाद जल्द ही नई दिल्ली में इस पर बैठक आयोजित किया जा सकता है। उन्होंने यह भी बताया कि दोनों देशों के बीच एक डबल टैक्सेशन अवॉइडेंस एग्रीमेंट को अंतिम रूप दिया गया है और ईरान से मंजूरी की प्रतीक्षा है।

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों की बात करते हुए ईरानी राजदूत ने कहा कि दोनों देश व्यापार को बढ़ावा देने के लिए रुपया भुगतान तंत्र के अलावा एक वस्तु विनिमय प्रणाली का भी पता लगा सकते हैं। हम भारत के साथ वस्तु विनिमय व्यापार कर सकते हैं। उन्होंने उद्योग जगत के कार्यक्रम में व्यापारियों से आह्वान करते हुए कहा कि चाबाहर पोर्ट का उपयोग कर दक्षिण एशियाई देशों में व्यापार को मज़बूत किया जा सकता है।