दुनिया / राजनीति
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का कहना है, “यू-टर्न लेना, सच्चे नेता की निशानी”

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि एक सच्चा नेता वो होता है जो आवश्यकतानुसार किसी भी परिस्थिति में यू-टर्न ले सके या रणनीति बदल सके, द डॉन  ने रिपोर्ट किया।

“एक नेता जो समय पर यू-टर्न न ले पाए, वह नेता नहीं है।”, खान ने पी एम ओ से मीडिया की वार्ता में कहा। “किसी भी सरकार के पहले 100 दिन इसकी रणनीतियों पर दिशाओं को स्ष्ट करते हैं।”, उन्होंने जोड़ा।

“नेताओं को उनके कर्त्तव्यों की आवश्यकतानुसार यू-टर्न लेने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए”, प्रधानमंत्री ने कहा। उन्होंने हिटलर और नेपोलियन की बात कहते हुए यू-टर्न का महत्त्व बताया।

खान को विपक्ष द्वारा “मास्टर ऑफ़ यू-टर्न” कहा जाता है। हालाँकि पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के वरिष्ठ नेता सईद खुर्शीद शाह ने कहा कि इमरान अपने बयान द्वारा खुद को हिटलर कह रहे थे।

खान ने आश्वासन दिया कि गरीबी, बेहतर शिक्षा और स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए उनकी सरकार एक व्यापक योजना बना रही है।

ढेर सारा विदेशी ऋण लेने के बावजूद खान ने पाकिस्तान को “तीसरे दर्जे की दुनिया का देश” मानने से इंकार कर दिया। खान ने दावा किया, “हमें अंदाड़ा नहीं है कि हमारा देश कितने संसाधनों से परिपूर्ण है।”

खान ने पुराने शासकों पर जान-बूझकर राज्य के संस्थानों को कमज़ोर व ग़ैर-ज़िम्मेदार बनाने का आरोप लगाया।