दुनिया / राजनीति
कोरिया ने की ‘मोदीनोमिक्स’ व विदेश नीति की सराहना: प्रधानमंत्री सीओल शांति पुरस्कार से सम्मानित

सीओल शांति पुरस्कार समिति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 2018 के सीओल शांति पुरस्कार से सम्मानित करने का निर्णय लिया है। इस पुरस्कार से सम्मानित होने वाले मोदी 14वें व्यक्ति होंगे।

समिति का कहना है कि वह भारतीय और वैश्विक अर्थव्यवस्था में मोदी के योगदानों की प्रशंसा करती है। अमीरों और गरीबों में सामाजिक और आर्थिक असमानता घटने का श्रेय वह ‘मोदीनोमिक्स’ को देते हैं। भ्रष्टाचार विरोधी प्रयासों और विमुद्रीकरण के लिए समिति ने मोदी की सराहना की। ‘मोदी डॉक्ट्राइन’ और ‘एक्ट ईस्ट नीति’ जैसी सक्रिय विदेश नीतियों के अंतर्गत क्षेत्रिय व वैश्विक शांति स्थापित करने का भी श्रेय दिया गया।

प्रधानमंत्री मोदी ने इस प्रतिष्ठित सम्मान के लिए आभार व्यक्त करते हुए पुरस्कार को स्वीकार किया है और सम्मान ग्रहण करने के लिए सीओल पीस प्राइज़ फाउंडेशन में उपस्थित रहने पर सहमति जताई है।

कोरियाई गणतंत्र के साथ मज़बूत हो रही साझेदारी के साथ यह घोषणा आई है। इसी वर्ष जुलाई में दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन भारत दौरे पर आए थे और व्यापार, संस्कृति, दूरसंचार, बायोटेक्नोलॉजी, आदि विषयों पर 11 समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए थे।

सीओल शांति पुरस्कार की स्थापना 1990 में सीओल में आयोजित 24वें ओलंपिक खेलों के बाद हुई थी। संयुक्त राष्ट्र संघ के पूर्व सचिव कोफ़ी अन्नान, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्कल और अन्य प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय व्यक्तित्व इस पुरस्कार से सम्मानित किए जा चुके हैं।