दुनिया
पाक-चीन संबंधों पर ‘जंग’? कराची में चीनी वाणिज्य दूतावास पर हमला

पाकिस्तानी पुलिस अधिकारियों ने सूचना दी है कि कराची में चीनी वाणिज्य दूतावास पर हमले में दो पुलिसकर्मी शहीद हो गए हैं और एक बूरी तरह से ज़ख्मी है, द हिंदू  ने बताया। पुलिस अधिकरियों ने यह भी बताया कि दूतावास में किसी को कोई नुकसान नहीं पहुँचा है और उन्हें सुरक्षित स्थान पर स्थानांतरित कर दिया गया है।

चीन के अलावा उस क्षेत्र में रूस और कुवैत के भी वाणिज्य दूतावास हैं। गोलाबारी कराची के सबसे संपन्न क्षेत्र में हुई है- क्लिफटॉन के पास। “तीन हमलावर थे और तीनों मारे जा चुके हैं… वे परिसर के भीतर भी नहीं घुस पाए। वे वीज़ा खंड में प्रवेश करने का प्रयास कर रहे थे।”, पुलिस प्रमुख आमिर शेख ने एनडीटीवी  को कहा।

इस घटना की ज़िम्मेदारी बलूचिस्तान मुक्ति सेना (बीएलए) ने ली है। “हमने यह हमला किया है और हम अपनी कार्यवाही जारी रखेंगे।”, बीएलए के प्रवक्ता जियांद बलूच ने कहा। पाकिस्तान के सबसे बड़े और सबसे गरीब प्रांत में यह समूह सक्रिय है।

चीन और इस्लामिक देश में अच्छे संबंध हैं और इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के माध्यम से चीन पाकिस्तान में पैसा भी निवेश कर रहा है। चीन-पाक आर्थिक गलियारा जो चीन की सबसे बड़ी परियोजना है, वह बलूचिस्तान से होकर गुज़रती है।