दुनिया
हलाल और कोषेर पर बेल्जियम कानून का प्रतिबंध, मुस्लिमों-यहूदियों ने की आलोचना

पशु हत्या के इस्लामी व यहूदी तरीकों पर रोक लगाते हुए बेल्जियम में एक नया कानून लाया गया है जिसके तहत मारने से पहले पशुओं को बिजली से निस्तब्ध करना होगा, स्काई न्यूज़  ने रिपोर्ट किया।

नव वर्ष से फ्लैंडर्स क्षेत्रों में यह कानून लागू कर दिया गया था और सितंबर तक वलोनिया में भी लागू कर दिया जाएगा। ब्रुसेल्स जहाँ मुस्लिम जनसंख्या अधिक है, केवल वहीं पर पुराने तरीके का प्रयोग मान्य होगा।

हालाँकि धार्मिक मान्यताओं के कारण कई स्थानों पर ऐसा नहीं हो पाता लेकिन अधिकांश यूरोपीय देशों में मानवीय संवेदनाओं को ध्यान में रखते हुए हत्या के पहले पशु को सुन्न करने का प्रावधान है जिससे उसे अधिक कष्ट न हो।

बेल्जियम के कई मुस्लिमों और यहूदियों ने दावा किया है कि इस कानून के कारण मांस की कीमतें बढ़ेंगी और खाद्य अभाव भी हो सकता है। इसपर प्रतिक्रिया देते हुए पशुओं के हित में ग्लोबल ऐक्शन के निदेशक ग्रीफ ने कहा- “वे आदिम काल में रहना चाहते हैं और बिना सुन्न किए पशुओं को मारना चाहते हैं लेकिन बेल्जियम का कानून ध्रम से ऊपर है और इसी का पालन होगा।”