समाचार
महाराष्ट्र में करीब 5,000 करोड़ रुपये की ईवी परियोजनाओं पर काम शुरू

महाराष्ट्र में पुणे के तलेगांव में कॉसिस ई-मोबिलिटी के इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) संयंत्र में विनिर्माण कार्य शुरू हो गया है। लंदन आधारित कंपनी ने 75 एकड़ में फैले इस संयंत्र में 2800 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी वहाँ पर इलेक्ट्रिक बसों का विनिर्माण करेगी।

लगभग 1,000 इकाइयों की उत्पादन क्षमता के साथ कॉसिस ई-मोबिलिटी का लक्ष्य नवंबर 2022 के पहले सप्ताह तक बसों को चलाने का है।

कॉसिस की बसों की क्षमता लगभग 250-300 किलोमीटर होगी और वे अगले चरण में बैटरी निर्माण सुविधा खोलने की भी योजना बना रहे हैं।

महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम (एमआईडीसी) ने अक्टूबर 2021 में इस मुद्दे पर कॉसिस ई-मोबिलिटी के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे।

इसी तरह, पुणे स्थित पिनेकल मोबिलिटी सॉल्यूशंस की 2000 करोड़ रुपये की ईवी परियोजना को हाल ही में ऑटोमोबाइल के लिए केंद्र की उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना हेतु स्वीकृति मिली।

पिनेकल का विनिर्माण पुणे और मध्य प्रदेश के पीथमपुर के मध्य विभाजित किया जाएगा। कंपनी देश भर में छोटे संयोजन संयंत्र लगाने की योजना बना रही है। इस वजह से यह एक भी बड़े संयंत्र का निर्माण नहीं करेगी।

वे अप्रैल 2022 में काम शुरू करने के लिए तैयार हैं और पहले दो वर्षों में क्रमशः 300 करोड़ और 600 करोड़ रुपये के निवेश के साथ काम करेंगे।