समाचार
5जी सेवाओं के साथ वर्ष के अंत तक देश में 8 करोड़ 5जी स्मार्टफोन होने की संभावना

जुलाई के अंत तक 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी शुरू होने के साथ भारत में 2022 के अंत तक सात से आठ करोड़ 5जी स्मार्टफोन होने की संभावना है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, काउंटरप्वाइंट रिसर्च का अनुमान है कि देश में कुल स्मार्टफोन शिपमेंट का सिर्फ 40 प्रतिशत से भी कम अगली पीढ़ी की तकनीक का समर्थन करेंगे, जबकि मार्केट रिसर्च कंपनी आईडीसी ने भविष्यवाणी की है कि इस वर्ष भारत में भेजे गए लगभग आधे डिवाइस इसका समर्थन करेंगे।

काउंटरप्वाइंट के मुताबिक, मार्च के अंत तक कुल स्मार्टफोन शिपमेंट में 5जी स्मार्टफोन की भागीदारी 29 प्रतिशत थी।

भारत में ऐसे स्मार्टफोन की शिपमेंट में गति तब आई, जब सरकार जुलाई के अंत से 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी करने जा रही है। इसके तहत वर्ष के अंत तक सेवाओं के शुरू होने की अपेक्षा है।

एक बड़े उपभोक्ता वर्ग को पूरा करने के लिए स्मार्टफोन निर्माता वर्ष के अंत तक अगली पीढ़ी की तकनीक का समर्थन करने वाले फोन की औसत बिक्री मूल्य को 10,000 से 15,000 रुपये तक लाने का प्रयास कर रहे हैं। फिलहाल, ऐसे स्मार्टफोन का औसत बिक्री मूल्य करीब 32,000 रुपये है।

हालाँकि, वैश्विक आपूर्ति शृंखला संकट के मध्य 5जी चिपसेट और अन्य घटकों की उच्च लागत का मतलब है कि उपभोक्ताओं को 10,000-15,000 रुपये के औसत मूल्य बिक्री के साथ ऐसे स्मार्टफोन में कम सुविधाओं के लिए समझौता करना होगा।