समाचार
जो बाइडन का अमेरिकी सैनिकों की मौत का बदला लेने का वादा, “भुगतने पड़ेंगे परिणाम”

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने गुरुवार (26 अगस्त) को अफगानिस्तान के काबुल हवाई अड्डे पर हुए घातक आत्मघाती बम विस्फोट में मारे गए अपने 13 अमेरिकी सैनिकों की मौत का बदला लेने का वादा किया।

व्हाइट हाउस में भावुक होकर बोलते हुए जो बाइडन ने हमले के लिए इस्लामिक स्टेट (आईएस) से जुड़े चरमपंथियों को ज़िम्मेदार माना है। उन्होंने कहा, “अमेरिका इस कृत्य को न तो भूलेगा और न ही क्षमा करेगा। इस हमले को अंजाम देने वालों के साथ अमेरिका को नुकसान पहुँचाने वाले हर व्यक्ति को यह पता है कि हम क्षमा नहीं करेंगे। हम नहीं भूलेंगे और चुन-चुन कर उनका शिकार करेंगे। आतंकियों को इसके परिणाम हर हाल में भुगतने ही पड़ेंगे।”

बाइडन की 31 अगस्त की सेना वापसी की समय सीमा से पहले लोगों को अफगान राजधानी से बाहर निकालने के लिए अमेरिका और अन्य देशों के नेतृत्व में निकासी प्रयासों के बीच हमले हुए। एसोसिएटेड प्रेस के अनुसार, 1,000 से अधिक अमेरिकी और कई अन्य अफगान अब भी काबुल से बाहर निकलने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने काबुल हमलों के बाद अपने व्हाइट हाउस के संबोधन में मारे गए अपने सेवा सदस्यों का सम्मान करने के लिए एक क्षण का मौन रखने के लिए कहा और अपना सिर झुकाकर अमेरिकी झंडे को पूरे देश में आधा-अधूरा फहराने का आदेश दिया। साथ ही उन्होंने सैन्य कमांडरों को आईएस की संपत्ति, नेतृत्व और सुविधाओं पर हमला करने के लिए योजना बनाने के भी निर्देश दिए।