समाचार
वकार यूनिस ने हिंदुओं के मध्य नमाज़ अदा करने वाली विवादित टिप्पणी पर क्षमा मांगी

पाकिस्तान के पूर्व तेज़ गेंदबाज वकार यूनिस ने 24 अक्टूबर को आईसीसी टी-20 विश्व कप में बाबर आजम की अगुआई वाली टीम द्वारा भारत को 10 विकेट से पराजित करने के बाद की गई विवादास्पद टिप्पणी के लिए बुधवार (27 अक्टूबर) को क्षमा मांगी।

वकार यूनिस ने ट्विटर पर लिखा, “उत्साह में आकर मैंने ऐसी बात कह दी। मैंने ऐसा कहा, जो मेरा कहने का अर्थ नहीं था। इससे काफी लोगों की भावनाएँ आहत हुई हैं। मैं इसके लिए माफी मांगता हूँ। मेरा उद्देश्य ऐसा बिल्कुल नहीं था। सच में मुझसे गलती हो गई। खेल लोगों को रंग और धर्म से हटकर जोड़ता है।”

इससे पूर्व, एआरवाई न्यूज़ चैनल पर एक चर्चा में वकार यूनिस ने कहा था कि उनका मैच के दौरान पसंदीदा भाग वह था, जब क्रिकेटर मोहम्मद रिज़वान हिंदुओं के मध्य ज़मीन पर बैठकर नमाज़ पढ़ रहे थे।

वकार की यह टिप्पणी प्रशंसकों के साथ कई पूर्व भारतीय क्रिकेटरों को भी पसंद नहीं आई। इस पर पूर्व भारतीय तेज़ गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने वकार को एक बेशर्म आदमी कहा। उन्होंने ट्वीट किया, “एक खेल में ऐसा कहना दूसरे स्तर की जिहादी मानसिकता को दर्शाता है। कितना बेशर्म आदमी है।”

हर्षा भोगले ने पूर्व पाकिस्तानी तेज गेंदबाज की टिप्पणी को खतरनाक बताया। उन्होंने कहा कि क्रिकेट की दुनिया को एकजुट होने की जरूरत है, ना कि धर्म से विभाजित होने की।

उन्होंने आगे कहा, “वकार यूनिस के कद जैसे व्यक्ति के लिए यह कहना कि रिज़वान को हिंदुओं के सामने नमाज़ अदा करते देखना उसके लिए बहुत खास था, सबसे निराशाजनक चीजों में से एक है।”