समाचार
केरल विवि में सावरकर व गोलवलकर का पाठ्यक्रम सम्मिलित, कांग्रेस ने जलाईं प्रतियाँ

केरल के कन्नूर विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में वीडी सावरकर और एमएस गोलवलकर से जुड़े इतिहास को सम्मिलित करने को लेकर विवाद उत्पन्न हो गया। कांग्रेस की छात्र इकाई केरल छात्र संघ ने गुरुवार (9 सितंबर) को विरोध में विश्वविद्यालय में रैली निकाली और पाठ्यक्रम की प्रतियाँ भी जलाईं।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, कुलपति प्रोफेसर गोपीनाथ रविंद्र ने कहा, “पाठ्यक्रम में महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, बाबा साहब आंबेडकर से जुड़ी जानकारियों को भी सम्मिलित किया गया है। वीर सावरकर और एमएस गोलवलकर ने क्या कहा था, यह वर्तमान भारतीय राजनीति का हिस्सा है। इसे सीखने में गलत क्या है?”

छात्रों का आरोप है कि सीपीआई (एम) सरकार शिक्षा के भगवाकरण में सहायता कर रही है। यूथ कांग्रेस उपाध्यक्ष रिजिल मकुट्टी ने कहा कि यह कदम दर्शाता है कि आरएसएस के लोग केरल में उच्च शिक्षा को नियंत्रित कर रहे हैं। हम शिक्षा के भगवाकरण के विरुद्ध विरोध जारी रखेंगे।

यह पूरा विवाद एमए, शासन और राजनीति के पाठ्यक्रम को लेकर है। इसमें सावरकर की ‘हिंदुत्व- हू इज़ अ हिंदू’ और गोलवलकर की ‘बंच ऑफ थॉट्स’ और ‘वी ऑर ऑवर नेशनहुड डिफाइंड’ के कुछ अंशों को सम्मिलित किया गया। इसके अतिरिक्त, दीनदयाल उपाध्याय की ‘इंटीग्रल ह्यूमनिज़्म’ और बलराज मधोक की ‘इंडियनाइजेशन: व्हाट, व्हाय एंड हाऊ’ का भी पाठ्यक्रम में अंश है।