समाचार
इंटीग्रल कोच फैक्ट्री का रेल मंत्री ने किया दौरा, “वंदे भारत ट्रनों का निर्माण तेज़ी से हो रहा”

तमिलनाडु के चेन्नै में केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शुक्रवार (20 मई) को इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) का दौरा किया और वहाँ निर्मित वंदे भारत ट्रेनों की प्रगति की समीक्षा की।

रेल मंत्रालय ने इस संबंध में हिंदी में एक ट्वीट भी किया है। अपने दौरे के दौरान अश्विनी वैष्णव ने कारखाने के कर्मचारियों से भेंट की और उन्हें प्रेरित किया।

वैष्णव ने शुक्रवार को एक ट्वीट में कहा, “वंदे भारत ट्रेनों का निर्माण इंटीग्रल कोच फैक्ट्री चेन्नै में फास्ट ट्रैक मोड पर है।”

2019 में शुरू की गई वंदे भारत सेमी-हाई स्पीड ट्रेनें, जिसे मूल रूप से ट्रेन 18 कहा जाता है, वर्तमान में दिल्ली-वाराणसी और दिल्ली-कटरा मार्गों पर चल रही हैं।

अपने बजट भाषण में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा की थी कि अगले तीन वर्षों में 400 वंदे भारत ट्रेनों का निर्माण किया जाएगा।

यह 2023 में स्वतंत्रता दिवस तक पूरे भारत में 75 वंदे भारत ट्रेनें चलाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित एक योजना के साथ आता है। मूल योजना इस वर्ष मई से इन ट्रेनों को शुरू करने की थी।

अगस्त-सितंबर तक योजना के अनुसार, तीन उत्पादन इकाइयों आईसीएफ चेन्नै, एमसीएफ रायबरेली और आरसीएफ कपूरथला में प्रति माह पाँच से सात ट्रेनों का उत्पादन किया जाएगा।

एक अधिकारी ने कहा, “विभिन्न उत्पादन इकाइयों में एक साथ काम चल रहा है। चूँकि, ट्रेन के अन्य हिस्से पहले से ही यहाँ हैं इसलिए और देरी नहीं होनी चाहिए। असलियत में लगता है कि हम आगामी वर्ष 15 अगस्त से पहले लक्ष्य हासिल कर लेंगे।”