समाचार
प्रधानमंत्री मोदी ने मेरठ में रखी ₹700 करोड़ की मेजर ध्यानचंद खेल विश्वविद्यालय की नींव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के मेरठ में मेजर ध्यानचंद खेल विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी। लगभग 700 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से इसकी स्थापना की जाएगी।

यह आधुनिक और अत्याधुनिक खेल इंफ्रास्ट्रक्चर सिंथेटिक हॉकी मैदान, फुटबॉल मैदान, बास्केटबॉल मैदान, वॉलीबॉल, हैंडबॉल, कबड्डी, लॉन टेनिस कोर्ट, व्यायामशाला हॉल, सिंथेटिक रनिंग स्टेडियम, स्विमिंग पूल, बहु-उद्देशीय हॉल और एक साइकिल वेलोड्रोम से लैस होगा।

इसमें निशानेबाजी, स्क्वैश, जिम्नास्टिक, भारोत्तोलन, तीरंदाजी, कैनोइंग और कयाकिंग सहित अन्य सुविधाएँ भी होंगी। विश्वविद्यालय में 540 महिला और 540 पुरुष खिलाड़ियों सहित 1,080 खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देने की क्षमता होगी।

प्रधानमंत्री ने मेरठ में मेजर ध्यानचंद को याद करते हुए कहा, “कुछ माह पूर्व केंद्र सरकार ने खेल प्रतिरूप के नाम पर देश के सबसे बड़े खेल पुरस्कार का नाम रखा था। मेरठ का खेल विश्वविद्यालय मेजर ध्यानचंद को समर्पित किया जा रहा है।”

उन्होंने कहा, “देश में खेलों के फलने-फूलने के लिए आवश्यक है कि युवाओं का खेलों में विश्वास हो और इसको एक पेशे के रूप में अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। यही मेरा संकल्प और सपना भी है!”

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने खेलों को रोजगार से जोड़ा है। टारगेट ओलंपिक पोडियम (टॉप्स) जैसी योजनाएँ शीर्ष खिलाड़ियों को उच्चतम स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने में सभी सहायता प्रदान कर रही हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, “खेलो इंडिया अभियान बहुत जल्द प्रतिभा को पहचान रहा है और उन्हें अंतर-राष्ट्रीय स्तर के लिए तैयार करने हेतु सभी समर्थन दिया जा रहा है। ओलंपिक और पैरा-ओलंपिक में भारत का हालिया प्रदर्शन खेल के मैदान में भारत के उत्थान का प्रमाण है।”

उन्होंने कहा, “संसाधनों के साथ एक खेल संस्कृति आकार लेती है और खेल विश्वविद्यालय इसमें एक बड़ी भूमिका निभाएगा।” मेरठ की खेल संस्कृति के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि शहर 100 से अधिक देशों में खेल के सामान का निर्यात करता है।