समाचार
उत्तर प्रदेश में 91 किलोमीटर लंबे गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे का कार्य 34% की प्रगति पर

उत्तर प्रदेश में 91.35 किलोमीटर लंबे गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य कुल मिलाकर 34 प्रतिशत की प्रगति पर पहुँच गया है और शेष का निर्माण तेज़ गति से चल रहा है।

मुख्य कैरिजवे में क्लियरिंग और ग्रबिंग (सीएंडजी) ने 99 प्रतिशत काम पूरा कर लिया है, जबकि मुख्य कैरिजवे में मिट्टी का काम पूरा होने के 55 प्रतिशत तक पहुँच गया है।

एक्सप्रेसवे पर ग्रैनुलर सब बेस (जीएसबी) और वेट मिक्स मैकडैम (डब्ल्यूएमएम) का काम क्रमशः 29 प्रतिशत और 27 प्रतिशत तक पहुँच गया है।

इसके अतिरिक्त, डेंस बिटुमिनस मैकडैम (डीबीएम) का काम 24 प्रतिशत तक पहुँच गया है और एक्सप्रेसवे पर 337 संरचनाओं में से 244 का कार्य पूर्ण हो गया है।

गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे गोरखपुर जिले के जैतपुर से आरंभ होता है और यह आजमगढ़ जिले के सलारपुर के पास पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पर विलय करके समाप्त होता है।

यह एक्सप्रेसवे छह लेन चौड़ी संरचनाओं के साथ चार लेन (छह लेन तक विस्तार योग्य) होगा और गोरखपुर, आजमगढ़, अंबेडकरनगर, संत कबीरनगर जिलों से होकर गुजरेगा।

इस एक्सप्रेसवे की स्वीकृत परियोजना लागत, जिसमें भूमि की लागत भी सम्मिलित है, वह 5876.67 करोड़ रुपये है।

परियोजना का कार्यान्वयन दो भागों में विभाजित किया गया है, जिसमें मेसर्स एप्को इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड और मैसर्स दिलीपबिल्डकॉन क्रमशः पैकेज-1 और पैकेज-2 विकसित कर रहे हैं। परियोजना इंजीनियरिंग, खरीद और निर्माण (ईपीसी) प्रणाली में कार्यान्वित की जा रही है।