समाचार
भारत पर मिसाइल प्रणाली खरीद को लेकर प्रतिबंध ना लगाने का यूएस सांसदों का आग्रह

अमेरिका के दो प्रभावशाली सांसदों ने मंगलवार (26 अक्टूबर) को राष्ट्रपति जो बाइडन से आग्रह किया कि रूस से एस-400 सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल रक्षा प्रणाली की खरीद को लेकर भारत के विरुद्ध काउंटरिंग अमेरिकाज़ एडवर्सरीज़ थ्रू सेंक्शंस एक्ट (काटसा) के दंडात्मक प्रावधानों को लागू ना करें।

डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद मार्क वॉर्नर और उनके रिपब्लिकन सहयोगी जॉन कॉर्निन ने जो बाइडन को एक पत्र लिखा, जिसमें उनसे आग्रह किया कि काटसा के तहत राष्ट्रीय हित को ध्यान में रखते हुए भारत को इसके प्रावधानों से छूट दी जानी चाहिए क्योंकि यह अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा हित में है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, दो सांसदों ने पत्र में लिखा, “हम आपको एस-400 ट्रायम्फ सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली की योजनाबद्ध खरीद के लिए भारत को काटसा छूट देने के लिए दृढ़ता से प्रोत्साहित करते हैं। ऐसे मामलों में जहाँ छूट देने से अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा हितों को बढ़ावा मिलेगा। वहीं, यह छूट प्राधिकरण जैसा कि कांग्रेस द्वारा कानून में लिखा गया है, राष्ट्रपति को प्रतिबंधों को लागू करने में अतिरिक्त विवेक की अनुमति देता है।”

बता दें कि मार्क वॉर्नर इंटेलिजेंस पर संसद की स्थाई चयन समिति के अध्यक्ष हैं, जबकि जॉन कॉर्निन रिपब्लिकन पार्टी के लिए संसद अल्पसंख्यक सचेतक हैं। दोनों सांसद सीनेट इंडिया कॉकस के सह-अध्यक्ष हैं।

भारत ने तत्कालीन ट्रम्प प्रशासन से काटसा प्रतिबंधों की चेतावनी की अनदेखी करते हुए एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणालियों की पाँच इकाइयों की खरीद के लिए अक्टूबर 2018 में रूस के साथ 5 अरब डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

काटसा एक सख्त अमेरिकी कानून है। यह अमेरिकी प्रशासन को उन देशों पर प्रतिबंध लगाने के लिए अधिकृत करता है, जो रूस से प्रमुख रक्षा हथियार खरीदते हैं।