समाचार
यूपीआई ने अप्रैल में तोड़ डाले सभी कीर्तिमान, 5.58 अरब लेन-देन के आँकड़े को छुआ

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम के आँकड़ों के अनुसार, अप्रैल में एकीकृत भुगतान अन्तरापृष्ठ (यूपीआई) रिकॉर्ड ऊँचाई पर पहुँच गया। इसमें कुल 558 करोड़ (5.58 अरब) लेन-देन हुए, जो कुल 9.83 खरब (9.83 लाख करोड़ रुपये) रुपये के थे। जब से आरंभ हुआ है, तब से इस भुगतान मंच के लिए लेन-देन की मात्रा और मूल्य दोनों के मामले में यह उच्चतम है।

मार्च 2022 में यूपीआई ने पहली बार एक महीने में 500 करोड़ (5 अरब) लेन-देन को संसाधित किया था। अप्रैल 2022 में लेन-देन की मात्रा 3.33 प्रतिशत बढ़ी और लेन-देन का मूल्य भी गत माह की तुलना में 2.36 प्रतिशत बढ़ा।

अप्रैल 2021 में यूपीआई ने 4.93 लाख करोड़ (₹4.93 खरब) रुपये के 264 करोड़ (2.64 अरब) लेन-देन को संसाधित किया था।

वर्ष दर वर्ष के आधार पर लेन-देन की मात्रा में 111 प्रतिशत की वृद्धि हुई और लेन-देन के मूल्य में लगभग 100 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

यूपीआई ने दिसंबर 2018 में एक लाख करोड़ रुपये (एक खरब) का आँकड़ा पार किया था और फिर दिसंबर 2019 में मूल्य के संदर्भ में भुगतान में 2 लाख करोड़ करोड़ रुपये (2 खरब) के आँकड़े को पार कर गया था।

भीम यूपीआई डिजिटल भुगतान के सबसे लोकप्रिय साधन के रूप में उभरा है। वित्त वर्ष 2021 में ऐसे सभी भुगतानों का 38.77 प्रतिशत भाग है।