समाचार
“जिन्ना का महिमामंडन करने वाले अखिलेश यादव अपना नार्को परीक्षण करवाएँ”- उप्र मंत्री

उत्तर प्रदेश के मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने शनिवार को कहा कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव को मुहम्मद अली जिन्ना का महिमामंडन करने के लिए अपना नार्को परीक्षण कराना चाहिए।

31 अक्टूबर को हरदोई में एक जनसभा के दौरान यादव ने जिन्ना के साथ महात्मा गांधी और अन्य स्वतंत्रता सेनानियों के नाम एक साथ लिए थे।

आनंद स्वरूप शुक्ला ने कहा, “अखिलेश यादव का मुहम्मद अली जिन्ना पर बयान देना कोई आम घटना नहीं। वे देश के बँटवारे के लिए ज़िम्मेदार हैं। जिन्ना एक खलनायक हैं, जिन्हें कोई भी भारतीय देखना या सुनना नहीं चाहेगा। अखिलेश यादव को स्पष्ट करना चाहिए कि किस दबाव, लालच में वे जिन्ना का महिमामंडन कर रहे हैं?”

उन्होंने आगे कहा, “मैं चाहता हूँ कि अखिलेश यादव स्वयं आगे आएँ और अपना नार्को परीक्षण करवाएँ। जिन्ना की प्रशंसा करने वालों को पाकिस्तान चला जाना चाहिए।” उनका बयान 31 अक्टूबर को अखिलेश यादव की टिप्पणी के जवाब में था।

सपा अध्यक्ष ने कहा था, “सरदार पटेल, महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और मुहम्मद अली जिन्ना ने एक ही संस्थान में पढ़ाई की और बैरिस्टर बन गए। उन्होंने देश को स्वतंत्रता दिलाने में सहायता की और कभी किसी संघर्ष से पीछे नहीं हटे।”

इससे पूर्व, सपा ने आईएसआई से आर्थिक सहयोग मिलने का यादव पर आरोप लगने पर शुक्ला को निलंबित करने की मांग की। शुक्ला ने मंगलवार को कहा था, “मुख्यमंत्री योगी इस्लामी जगत के लिए चुनौती बन गए हैं। अखिलेश यादव को आईएसआई से संरक्षण और सलाह मिल रही है। संभव है कि इससे उन्हें आर्थिक सहयोग भी मिल रहा हो।”

उन्होंने कहा था, “मुसलमानों को खुश करने के लिए अखिलेश ने नमाज़ की और रोज़ा (उपवास) रखा। वे वोट पाने के लिए मतांतरण और खतना भी करवा सकते हैं। वे ऐसे बयान दे रहे हैं, जो पाकिस्तान और तालिबान चाहते हैं।”