समाचार
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में पुरोहित कल्याण बोर्ड के गठन को दी स्वीकृति

अपने चुनावी वादे को पूरा करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लगातार दूसरे कार्यकाल की अवधि में बुजुर्ग संतों, पुजारियों और साधुओं के कल्याण के लिए पुरोहित कल्याण बोर्ड के गठन का निर्देश दिया।

फरवरी में अपने चुनाव प्रचार के एक भाग के रूप में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रायबरेली में एक सार्वजनिक रैली को संबोधित करते हुए घोषणा की थी, “हमने पुरोहित कल्याण बोर्ड का गठन करने का निर्णय किया है।”

इसके अतिरिक्त, उन्होंने दावा किया था, “सभी संस्कृत के विद्यार्थियों को एक विशेष छात्रवृत्ति मिलेगी।” भाजपा के लोक कल्याण संकल्प पत्र में उल्लेखित चुनावी वादों को पूरा करते हुए मुख्यमंत्री ने मंत्रिपरिषद् की बैठक में आदेश पारित किए।

मुख्यमंत्री द्वारा चैरिटेबल अफेयर्स, पर्यटन, संस्कृति और भाषा विभागों की कार्य योजना की प्रस्तुति के साथ मूल्यांकन के बाद यह निर्देश आया।

इसके अतिरिक्त, उन्होंने आगामी 100 दिनों के भीतर एक ऑनलाइन एकीकृत मंदिर सूचना प्रणाली बनाने का भी निर्देश दिया। इसमें श्रद्धालुओं और पर्यटकों की सुविधा हेतु मंदिर, उसके इतिहास, रूट मैप आदि की जानकारी सम्मिलित होगी। प्रयागराज, मथुरा, गोरखपुर और वाराणसी जिलों में भजन संध्या स्थल भी तैयार किए जाएँगे।

मुख्यमंत्री ने 12 चिह्नित पर्यटक सर्किटों- रामायण सर्किट, बौद्ध सर्किट, आध्यात्मिक सर्किट, शक्तिपीठ सर्किट, कृष्णा-ब्रज सर्किट, बुंदेलखंड सर्किट, महाभारत सर्किट, सूफी सर्किट, क्राफ्ट सर्किट, स्वतंत्रता संग्राम सर्किट, जैन सर्किट और वन्यजीव और पारिस्थितिकी-पर्यटन सर्किट के समय पर विकास पर भी बल दिया।

इन विभिन्न पर्यटन विकासों के लिए राज्य सरकार निजी सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) मॉडल पर विचार कर रही है। राज्य के सभी 75 जिलों में पर्यटन एवं संस्कृति परिषद् का भी गठन किया जाएगा। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश को सांस्कृतिक स्थल के रूप में स्थापित करना उनका प्रयास है।