समाचार
“केंद्र सरकार तिरुपुर की तरह 75 टेक्सटाइल हब बनाना चाहती है”- पीयूष गोयल

केंद्रीय कपड़ा, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार (26 जून) को तिरुपुर में एक कार्यक्रम में कहा कि केंद्र सरकार तिरुपुर की तरह 75 टेक्सटाइल हब बनाना चाहती है।

गोयल ने कहा कि तिरुपुर ने देश को गौरवान्वित किया है और वार्षिक 30,000 करोड़ रुपये के कपड़ा उत्पादन का घर है।

उन्होंने कहा, “1985 में तिरुपुर 15 करोड़ रुपये के कपड़ा उत्पादों का निर्यात कर रहा था। मार्च 2022 को समाप्त वर्ष में तिरुपुर से अनुमानित निर्यात 30,000 करोड़ रुपये है, जो 22.87 प्रतिशत की चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर के साथ लगभग दो हजार गुना है।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, “तिरुपुर में यह क्षेत्र छह लाख लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार और चार लाख लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार प्रदान करता है। ऐसे में सामूहिक रूप से दस लाख लोगों को रोजगार मिलता है, जिनमें से लगभग 70 प्रतिशत महिलाएँ और हाशिए के वर्गों से आए लोग हैं।”

पीयूष गोयल ने कहा कि पूरे भारत में लगभग 3.5 से 4 करोड़ लोग अकेले कपड़ा क्षेत्र की कुल मूल्य शृंखला में लगे हुए हैं।

उन्होंने कहा, “कृषि के बाद कपड़ा दूसरा सबसे बड़ा काम का प्रदाता है। उद्योग का आकार लगभग 10 लाख करोड़ रुपये है। निर्यात करीब 3.5 लाख करोड़ रुपये का है। कपड़ा क्षेत्र में आगामी 5 वर्षों में 10 लाख करोड़ रुपये के निर्यात के साथ 20 लाख करोड़ रुपये के उद्योग तक बढ़ने की क्षमता है। फिर भी 7.5-8 लाख करोड़ का मामूली निर्यात लक्ष्य और लगभग 20 लाख करोड़ का उत्पादन लक्ष्य, जो आगामी 5 वर्षों में संभव है, निर्धारित किया गया है।”