समाचार
380 किमी लंबा गाज़ियाबाद-कानपुर एक्सप्रेसवे स्वीकृत, यात्रा समय छह से तीन घंटे होगा

केंद्र सरकार ने कानपुर और गाज़ियाबाद के दो औद्योगिक केंद्रों को जोड़ने वाले 380 किलोमीटर लंबे ग्रीनफील्ड आर्थिक गलियारे को स्वीकृति दे दी।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के नौ जिलों से गुज़रते हुए गलियारा दोनों शहरों के मध्य यात्रा के समय को घटाकर केवल तीन घंटे कर देगा।

इसके अंतर्गत नौ जिले अलीगढ़, बुलंदशहर, कासगंज, कन्नौज, कानपुर, फर्रुखाबाद, उन्नाव और हापुड़ हैं।

परियोजना 2025 तक पूरी होने की संभावना है और राजमार्ग शुरू में चार लेन चौड़ा होगा। हालांकि, गलियारा को आठ लेन में विकसित करने की योजना है।

द टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से कहा गया, “सितंबर 2019 में केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने गाज़ियाबाद को कानपुर से जोड़ने वाले एक आर्थिक गलियारे की घोषणा की थी।”

अधिकारी ने कहा, “यह विचार दो औद्योगिक शहरों के मध्य यात्रा के समय को कम करना करना था। पिछले हफ्ते गुरुवार को मंत्रालय ने गलियारे के लिए अपनी स्वीकृति दी।

वर्तमान में कानपुर और गाज़ियाबाद के मध्य यात्रा करने में यमुना एक्सप्रेसवे के माध्यम से छह घंटे और एनएच-9 के माध्यम से आठ घंटे लगते हैं।

आगामी गलियारे के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) एक वर्ष में तैयार की जाएगी। चार लेन गलियारे को पहले अंडरपास और पुलिया पर 6 लेन तक बढ़ाया जाएगा। इसके अतिरिक्त, राजमार्ग को बाद में आठ लेन तक चौड़ा करने के लिए भूमि को अलग रखा जाएगा।