Uncategorised
गंगा जल और पवित्र, ‘नमामि गंगे’ ने नदी को मुक्त किया 128 साल पुराने श्राप से

‘नमामि गंगे’ परियोजना की गंगा की सफाई के लिए सबसे बड़ी विजय हुई है। सिसामाऊ नाला जो प्रतिदिन गंगा में 14 करोड़ लीटर का सीवेज मुक्त करता था, उसे सफलतापूर्वक जाजमाऊ सीवेज उपचार संयत्र की ओर मोड़ दिया गया है, लाइव हिंदुस्तान  ने बताया।

पिछले 128 सालों से भैरो घाट के द्वारे यह नाला गंगा में विसर्जित होता रहा था। इससे पहले 8 करोड़ लीटर के सीवेज को सफलतापूर्वक हटा दिया गया था लेकिन बचे हुए 6 करोड़ लीटर सीवेज को मोड़ना एक चुनौतीपूर्ण कार्य था। हालाँकि अब यह कार्य राज्य के जल निगम के अभियंताओं और नमामि गंगे के अभियंताओं के संयुक्त प्रयासों से पूर्ण किया गया।

रिपोर्ट के अनुसार सीवेज के वेग के कारण अभियंताओं और पंपिंग मशीनों को उनकी क्षमता से अधिक कार्य करना पड़ा। यह कार्य वर्तमान पाइपलाइन व ब्रिटिश ज़माने के नाले की उपस्थित के कारण और मुश्किल हो गया था।

गंगा की सफाई नरेंद्र मोदी सरकार की प्राथमिकताओं में से रही है और इसी कार्य के लिए ‘नमामि गंगे’ परियोजना शुरू की गई थी। इससे पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने घोषणा की थी कि दिसंबर 2019 तक यह परियोजना पूर्ण हो जाएगी।