Uncategorised
स्वर्ग में बनती हैं लेकिन भारत में टिकती हैं जोड़ियाँ- वैश्विक तलाक दर की रिपोर्ट

अमरीका, फ्रांस जैसे विकसित देशों में तलाक मामलों में वगाता वृद्धि हो रही है लेकिन भारत में अब भी यह 1 प्रतिशत से कम है। विकसित देशों में विकासशील देशों से अधिक तलाक के मामले सामने आए हैं, इंडिया टुडे  ने रिपोर्ट किया।

रिपोर्ट में विवाह-विच्छेद के प्रमुख कारण ये बताए गए हैं- विश्वासघात, विसंगति, शारीरिक या मानसिक संताप और शराब या ड्रग्स की लत।

तथ्य- 1960 से वैश्विक तलाक दर 251.8 प्रतिशत से बढ़ गई है। हर वर्ष संयुक्त राष्ट्र द्वारा वैश्विक तलाक दर दर्ज की जाती है।

न्यूनतम तलाक दर वाले देश हैं-
भारत- 1 प्रतिशत- भारतीय सामाजिक ढाँचे के कारण यह दर इतनी कम है। 1000 में से मात्र 13 में विवाह-विच्छेद होता है।
चिली- 3 प्रतिशत- चिली में तलाक सामाजिक वर्जना है, जिसके कारण इसे नीचे से दूसरा स्थान मिला।

अधिकतम तलाक दर वाले देश हैं-
लग्ज़मबर्ग- 87 प्रतिशत- लग्ज़मबर्ग यूरोप के सबसे छोटे देशों में से एक है और यूरोपीय देशों में सबसे तीव्र जनसंख्या वृद्धि वाले देशों में भी सम्मिलित है।
स्पेन- 65 प्रतिशत- कैथोलिक मान्यताओं के बावजूद, स्पेन में विश्व में दूसरे स्थान पर सबसे ज़्यादा विवाह-विच्छेद होते हैं।