Uncategorised / राजनीति
“पंजाब के कारण दिल्ली प्रदूषण नहीं”, कैप्टन अमरिंदर सिंह को केजरीवाल के आई.आई.टी. स्नातक होने पर आश्चर्य

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दावे, कि पंजाब में फसलों की ठूंठी जलाने से दिल्ली में प्रदूषण अधिक हो रहा है, को “नासमझी” बताकर कहा कि क्या केजरीवाल सच में “आई.आई.टी. से स्नातक” हैं।

सिंह ने कहा कि जनवरी और फरवरी में भी दिल्ली की वायु गुणवत्ता का ए.क्यू.आई. 300 से ज़्यादा होता है जब आसपास के प्रदेशों में कोई फसल नहीं जलाई जाती। उन्होंने कहा कि इससे पता चलता है कि दिल्ली के प्रदूषण का कारण स्वयं दिल्ली के वाहन, निर्माण गतिविधियाँ, कचरा जलाना, आदि गतिविधियाँ हैं, इंडियन एक्सप्रेस  ने रिपोर्ट किया।

एक प्रेस सम्मेलन में केजरीवाल ने दिल्ली-एन.सी.आर. के प्रदूषण का आरोप पंजाब पर लगाया था और पंजाब-हरियाणा में जलाई जा रही फसलों की सैटेलाइट तस्वीरें भी दिखाई थीं। उन्होंने केंद्र पर भी किसानों से भूसा प्रबंधन मशीनें वापस लेने का आरोप लगाया। इस बात को दोहराते हुए कि सरकार ने आवश्यक स्तरों तक प्रदूषण को लाने का पूरा प्रयास किया, उन्होंने कहा कि 25 अक्टूबर से फसलों के जलाने से अचानक से प्रदूषण बढ़ गया।

अमरिंदर ने इन टिप्पणियों की खिल्ली उड़ाई और वैज्ञानिक डाटा प्रस्तुत किया कि एक छोटे से क्षेत्र में बड़ी जनसंख्या के होने से और अक्टूबर में हवा की गति धीमी पड़ने से ए.क्यू.आई. बढ़ा है। उन्होंने कहा कि अगर फसल जलाने से ही प्रदूषण बढ़ता तो इसका असर पंजाब पर भी देखने को मिलता।

उन्होंने कहा, “राष्ट्रीय राजधानी में अपने शासन को सकुशल चलाने में नाकाम हुए मुख्यमंत्री झूठी बातों से खुद का बचाव करना चाह रहे हैं।”