समाचार
यूक्रेन युद्ध में मारे गए मेडिकल छात्र नवीन शेखरप्पा का पार्थिव शरीर कर्नाटक पहुँचा

भारतीय मेडिकल छात्र नवीन शेखरप्पा ज्ञानगौदर का पार्थिव शरीर सोमवार को कर्नाटक पहुँचा। वह यूक्रेन में छिड़े युद्ध में हुई एक गोलाबारी में मारे गए थे।

1 मार्च को युद्ध क्षेत्र में उनकी मृत्यु हो गई थी। वह खार्किव राष्ट्रीय चिकित्सा विश्वविद्यालय में अध्ययन कर रहे थे।

नवीन शेखरप्पा ज्ञानगौदर के पार्थिव शरीर को प्राप्त करने के लिए पीड़ित परिवार के सदस्य, मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई सहित अन्य लोग हवाई अड्डे पर तड़के उपस्थित थे।

उसके बाद उनके पार्थिव शरीर को हावेरी जिले के रानेबेन्नूर तालुक के चलगेरी गाँव में उनके पैतृक स्थान ले जाया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा, “पीड़ित की माँ बेटे के पार्थिव शरीर के लिए रो रही थी। शुरू में हमें शव को युद्ध क्षेत्र से लाने की संभावना पर भी संदेह था। यह एक कठिन कार्य था, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी कूटनीतिक ताकत और छवि के साथ सफलतापूर्वक संचालित किया।”

उन्होंने बताया कि यह कितना दुर्भाग्यपूर्ण था कि नवीन की जान चली गई। उन्होंने यूक्रेन से हजारों छात्रों को स्वदेश वापस लाने के लिए विदेश मंत्री एस जयशंकर और अधिकारियों के साथ पुनः प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद दिया।

उन्होंने कहा, “विद्यार्थी का पार्थिव शरीर लाना असंभव था क्योंकि अधिकतर समय हम अपने सैनिकों के शव युद्ध क्षेत्रों से नहीं ले सकते हैं लेकिन यहाँ एक नागरिक का शरीर प्राप्त करना, वह भी किसी दूसरे देश से, चमत्कार से कम नहीं है।”

नवीन के माता-पिता बेटे के अंतिम संस्कार के बाद शव को एक निजी अस्पताल को दान कर देंगे।