समाचार
आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक में रेपो व रिवर्स रेपो रेट में बदलाव नहीं

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास की अगुआई वाली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने अर्थव्यवस्था को लेकर नरमी बरकरार रखी है। बैठक में रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में लगातार 10वीं बार कोई परिवर्तन नहीं किया गया।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय बैंक के निर्णय के बाद ब्याज दरें अब भी नीचे ही रहेंगी क्योंकि रेपो रेट को 4 प्रतिशत पर स्थिर रखने का निर्णय लिया गया। रिवर्स रेपो रेट भी 3.35 प्रतिशत पर बरकरार रहेगी।

हालाँकि, बाजार विश्लेषक रिवर्स रेपो रेट में वृद्धि किए जाने का अनुमान लगा रहे थे लेकिन आरबीआई ने अपनी नीतिगत दरों में कोई परिवर्तन नहीं किया। केंद्रीय बैंक ने चालू वित्त वर्ष में 9.2 प्रतिशत के विकास दर अनुमान को बनाए रखा है, जबकि अगले वित्त वर्ष (2022-23) के लिए 7.8 प्रतिशत विकास दर का अनुमान किया है।

गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा, “भारतीय अर्थव्यवस्था तेज़ी से बेहतर हो रही है। इसमें स्थिरता भी आ रही है। इसकी विकास दर को बनाए रखने के लिए अभी मौद्रिक नीतियों को नरम ही रखा जाएगा।”

गत माह जारी आर्थिक सर्वेक्षण में अगले वित्त वर्ष के लिए 8-8.5 प्रतिशत विकास दर का अनुमान लगाया गया था, जबकि आरबीआई का अनुमान इससे कम है।

बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक ने करीब दो वर्ष पूर्व रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में कटौती की थी। इसके बाद से इसमें कोई परिवर्तन नहीं किया गया। रेपो रेट अब भी करीब 20 वर्ष के निचले स्तर पर बना हुआ है।