समाचार
त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने न्यायापालिका को लेकर दिया विवादित बयान

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने सिविल सेवा अधिकारी एसोसिएशन के सम्मेलन को संबोधित करने के दौरान न्यायपालिका को लेकर विवादित बयान दे डाला। इसका वीडियो भी वायरल हो गया, जिसे शनिवार का बताया जा रहा है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, बिप्लब कुमार देब ने कहा, “भारत के इतिहास में न्यायालय की अवमानना पर कितने लोग जेल गए। न्यायालय यदि हमें पकड़ने को पुलिस भेजेगी तो वह वापस जाकर बताएगी कि आरोपी नहीं मिला।”

उन्होंने आगे कहा, “पुलिस हमारे नियंत्रण में है। किसी को डरने की आवश्यकता नहीं है। न्यायालय की अवमानना को शेर की तरह माना जाता है लेकिन यहाँ मैं स्वयं शेर हूँ। मेरे हाथ में ताकत है। अगर किसी को जेल जाना होगा तो सबसे पहले मैं जाऊँगा।”

सीपीआई(एम) के नेता जितेंद्र चौधरी ने कहा, “न्यायपालिका हमारे लोकतंत्र का मजबूत स्तंभ है। बिप्लब कुमार देब का बयान आता है कि वे न्यायपालिका का सम्मान नहीं करते हैं। यह बयान उनकी हताशा को दर्शाता है।”

इस पर तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री पर निशाना साधा। टीएमसी महासचिव अभिषेक बनर्जी ने ट्वीट किया, “यह पूरे देश का अपमान है। वह लोकतंत्र का माखौल उड़ा रहे हैं। क्या सर्वोच्च न्यायालय ऐसी टिप्पणी का संज्ञान लेगा, जो उसका अनादर करती है।”