समाचार
2014 के बाद से राष्ट्रीय राजमार्ग 91,287 किमी से बढ़कर 1,40,000 किमी के हुए- केंद्र

देश में राष्ट्रीय राजमार्गों (एनएच) की कुल लंबाई अप्रैल 2014 से लगभग 91,287 किलोमीटर से बढ़कर लगभग 1,40,937 किलोमीटर हो गई है।

वर्ष 2014-15 से वित्तीय वर्ष 2021-22 के नवंबर-21 के अंत तक लगभग 82,058 किलोमीटर की परियोजनाओं को आवंटित किया गया और लगभग 68,068 किलोमीटर लंबी सड़कों का काम पूरा किया जा चुका है।

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी।

अक्टूबर 2017 में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) द्वारा अनुमोदित भारतमाला परियोजना चरण -1 में 24,800 किलोमीटर लंबे ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे, इंटर-कॉरिडोर और फीडर रोड आदि का विकास सम्मिलित है। साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजनाओं (एनएचडीपी) के तहत लगभग 10,000 किमी की शेष राशि को समाहित किया गया।

अब तक लगभग 19,482 किमी में कार्य प्रदान किए गए और कार्यक्रम के तहत लगभग 7,952 किमी का कार्य पूरा किया जा चुका है।

कार्यक्रम में अन्य बातों के साथ लगभग 3.6 लाख करोड़ रुपये की कुल लागत से लगभग 8,400 किलोमीटर लंबाई में लगभग 22 ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के विकास की परिकल्पना की गई है।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अनुसार, लगभग 2,30,489 करोड़ रुपये की कुल पूंजी लागत (टीसीसी) के लिए लगभग 5,065 किलोमीटर की परियोजनाओं को आवंटित किया गया। इनमें से लगभग 1,225 किलोमीटर में काम पूरा हो चुका है।

मंत्रालय ने कहा, “लगभग 500 किलोमीटर में लगभग 26,012 करोड़ रुपये के टीसीसी के साथ परियोजनाएँ बोली के चरण में हैं। लगभग 2,844 किमी का शेष लंबाई निर्माण पूर्व चरणों में है, जिसमें लगभग 1,00,000 करोड़ रुपये से अधिक की अनुमानित टीसीसी है। इन परियोजनाओं को चरणबद्ध तरीके से चालू वित्तीय वर्ष 2021-22 और 2022-23 के दौरान प्रदान करने के लिए लक्षित किया गया। इन सभी परियोजनाओं को चरणबद्ध तरीके से 2024-25 तक पूरा करने का लक्ष्य है।”