समाचार
टीटागढ़ वैगन्स को रेलवे से मिला 7,800 करोड़ रुपये का अब तक का सबसे बड़ा ऑर्डर

टीटागढ़ वैगन्स को भारतीय रेलवे से 24,177 वैगनों के निर्माण और आपूर्ति के आदेश के लिए स्वीकृति पत्र प्राप्त हुआ है। अनुबंध की कुल कीमत 7,838 करोड़ रुपये कर के साथ है।

टीटागढ़ वैगन्स ने मंगलवार (24 मई) को स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में कहा, “आदेश को 39 माह की अवधि में निष्पादित करने की आवश्यकता है।”

कंपनी ने कहा कि जुलाई-1997 में अपनी स्थापना के बाद से यह सबसे बड़ा एकल ऑर्डर है। कंपनी को प्राप्त ऑर्डर भारतीय रेलवे द्वारा अब तक दिए गए कुल ऑर्डर का लगभग 32 प्रतिशत है।

कंपनी ने कहा, “इस अनुबंध को प्राप्त करने के साथ कंपनी की कुल ऑर्डर बुक 10,645 करोड़ रुपये हो गई है और कंपनी के इतिहास में अब तक की एकमात्र सबसे ज्यादा ऑर्डर बुक वैल्यू है।”

टीटागढ़ के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक उमेश चौधरी ने कहा, “सरकार ने पहले घोषणा की थी कि वह अगले कुछ वर्षों में अपने माल ढुलाई को दोगुना करने पर विचार कर रहे हैं, जिससे अपेक्षा की जा रही थी कि बहुत बड़ी संख्या में ट्रेन के पहियों की खरीद की जाएगी।”

उन्होंने कहा, “यह अनुबंध समूह को सबसे भरोसेमंद निर्माता बनने की दिशा में सक्षम बनाता है। कंपनी माल ढुलाई और परागमन ट्रेन कारोबार दोनों के लिए एक निर्यात बाज़ार विकसित करने का भी प्रयास कर रही है।”

उमेश चौधरी ने कहा, “अंतर-राष्ट्रीय प्रमाणीकरण और सेवाओं की मान्यता हेतु आवेदन वैश्विक स्तर पर अपने उत्पादों की व्यापक स्वीकृति के लिए पहले ही पूरा कर लिया गया है।”

उन्होंने कहा, “हमने हाल ही में अमेरिका में एक कार्यालय खोला है, जबकि ट्रांजिट ट्रेन निर्माण में सम्मिलित हमारी इटली की सहायक कंपनी के माध्यम से यूरोप में पहले ही एक महत्वपूर्ण उपस्थिति है। हम मालवाहक और पारगमन व्यवसाय दोनों के लिए वैश्विक बाज़ार को कवर करने हेतु अपने भारतीय व इटैलियन परिचालन का तालमेल बिठाएँगे।”