समाचार
एचएएल, बीईएल सहित तीन भारतीय कंपनियाँ वैश्विक हथियारों की बिक्री में शीर्ष 100 में

वैश्विक हथियारों के व्यापार पर नज़र रखने वाले स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सिप्री) की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, तीन भारतीय कंपनियाँ हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल), इंडियन ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीज़ और भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) 2020 में संयुक्त हथियारों की बिक्री में दुनिया की शीर्ष 100 कंपनियों में सम्मिलित हैं।

एचएएल और इंडियन ऑर्डिनेंस फैक्टरीज़ ने क्रमशः 2.97 अरब डॉलर और 1.9 अरब डॉलर की बिक्री के साथ रैंकिंग में 42वाँ और 60वाँ स्थान प्राप्त किया है। बीईएल को 2020 में 1.63 अरब डॉलर की बिक्री के साथ 66वें स्थान पर रखा गया है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, हथियारों की बिक्री में भारतीय हिस्सेदारी 2020 में अंतर-राष्ट्रीय स्तर पर 1.2 प्रतिशत थी। तीन उपरोक्त भारतीय कंपनियों की कुल हथियारों की बिक्री 6.5 अरब डॉलर थी, जो 2019 की तुलना में 2020 में 1.7 प्रतिशत अधिक थी।

सिप्री की रिपोर्ट में कहा गया है, “घरेलू खरीद ने भारतीय कंपनियों को महामारी के नकारात्मक आर्थिक परिणामों से बचाने में सहायता की है।”

आगे कहा गया, “2020 में भारत सरकार ने घरेलू कंपनियों का समर्थन करने और हथियारों के उत्पादन में आत्मनिर्भरता बढ़ाने के लिए 100 से अधिक विभिन्न प्रकार के सैन्य उपकरणों के आयात पर चरणबद्ध प्रतिबंध लगाने की घोषणा की।”

शीर्ष 100 कंपनियों की संयुक्त हथियारों की बिक्री में अमेरिका और चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी क्रमश: 54 प्रतिशत और 13 प्रतिशत है।