समाचार
इमरान खान पर लटकी प्रधानमंत्री पद छोड़ने की तलवार, संसद में अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत

प्रधानमंत्री इमरान खान के विरुद्ध विपक्षी दलों ने मंगलवार को पाकिस्तान की संसद में अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत किया। हालाँकि, संसद अध्यक्ष अपने कार्यालय में नहीं थे इस वजह से प्रस्ताव को सचिवालय में प्रस्तुत किया गया।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, नेशनल एसेंबली में विपक्ष के कुल 86 सदस्यों ने प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किए। नियमानुसार, 68 सदस्यों की याचिका पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता होती है और अध्यक्ष के पास प्रस्ताव को लेकर मतदान के लिए सत्र बुलाने हेतु 3 से 7 दिन होते हैं।

पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज़ (पीएमएल-एन) के सांसदों को पहले ही इस्लामाबाद में रहने का निर्देश दिया गया क्योंकि आने वाले तीन सप्ताह राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण होंगे।

नेशनल एसेंबली सत्र की मांग वाला प्रस्ताव जेयूआई-एफ के शाहिदा अख्तर अली, पीएमएल-एन के साद रफीक, मरियम औरंगजेब, अयाज़ सादिक, राणा सनाउल्लाह और पीपीपी के नवीद कमर व शाजिया मारी द्वारा प्रस्तुत किया गया।

इससे पूर्व, पाकिस्तान के प्रमुख विपक्षी दल पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के हजारों समर्थकों ने प्रधानमंत्री इमरान खान से पद छोड़ने या संसद में अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने की मांग करते हुए रैली की। उन पर अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने और गलत प्रबंधन करने का आरोप लगाया।

पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी के नेतृत्व में यह मार्च 34 प्रमुख शहरों से होकर 8 मार्च को इस्लामाबाद पहुँचा। वहाँ पीपीपी कार्यकर्ता संसद के बाहर डेरा डाले हैं। बिलावल ने चेतावनी देते हुए कहा, “इमरान खान 24 घंटे में त्याग-पत्र दें और चुनाव में हमारा सामना करें या अविश्वास प्रस्ताव के लिए तैयार रहें।”