समाचार
भारत से कपड़ा निर्यात 5 वर्षों में 100 अरब डॉलर को पार कर सकता है- कपड़ा सचिव

भारत से कपड़ा निर्यात अगले 5 वर्षों में वर्तमान 40 अरब डॉलर से 100 अरब डॉलर को पार करने की संभावना है। इस संबंध में एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने मंगलवार (22 फरवरी) को जानकारी दी।

केंद्रीय कपड़ा सचिव उपेंद्र प्रसाद सिंह ने परिधान निर्यात संवर्धन परिषद् (एपेक) के 44वें स्थापना दिवस पर कहा, “हमें अगले वित्त वर्ष या उसके बाद के वर्ष तक 20 अरब डॉलर के परिधान निर्यात को पार करने की स्थिति में होना चाहिए।”

उन्होंने कहा कि आगामी 5 वर्षों में देश का कपड़ा निर्यात मौजूदा 40 अरब डॉलर से बढ़कर 100 अरब डॉलर हो सकता है। भारतीय परिधान उद्योग को अपने पैमाने, आकार को बढ़ाने और पीएलआई योजना से लाभ उठाने के लिए ऊर्ध्वाधर एकीकरण पर ध्यान देना चाहिए।

कपड़ा सचिव ने कहा, “परिधान और कपड़ा बहुत निवेश केंद्रित नहीं हैं लेकिन ये रोजगार के दृष्टिकोण से बहुत महत्वपूर्ण हैं। शायद, पिछड़े एकीकरण की आवश्यकता है और आप में से कई लोग कताई व बुनाई जैसी एकीकृत मूल्य-शृंखला में सम्मिलित हो सकते हैं।”

स्थापना दिवस को संबोधित करते हुए उपेंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि सरकार पीएलआई योजना के साथ प्रधानमंत्री वृहत एकीकृत कपड़ा क्षेत्र और परिधान (पीएम मित्र) योजना को सफल बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। यह सुझाव सिर्फ एक विश्व स्तरीय इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं बल्कि एक फलता-फूलता उद्योग भी है।

उन्होंने कहा, “कपड़ा हमेशा सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से रहा है। बहुत से बड़े अवसर हैं। मांग मजबूत बनी हुई है और पश्चिमी देशों द्वारा चीन प्लस वन सोर्सिंग रणनीति निश्चित रूप से हमारे लिए एक बड़ा अवसर है।”