समाचार
जैश-ए-मोहम्मद आतंकी समूह के दस ओवरग्राउंड वर्कर जम्मू-कश्मीर में गिरफ्तार- पुलिस

आतंकी समूह जैश-ए-मोहम्मद के कथित तौर पर ओवरग्राउंड वर्कर्स (ओजीडब्ल्यू) के रूप में काम करने वाले 10 लोगों को आतंकवाद और अलगाववाद से जुड़े मामलों की जाँच करने वाली राज्य जाँच एजेंसी (एसआईए) ने गिरफ्तार किया।

अधिकारियों ने बुधवार को जानकारी दी कि एसआईए के अधिकारियों ने कश्मीर के दक्षिण और मध्य कश्मीर के विभिन्न जिलों में अलग-अलग स्थानों पर रात भर छापेमारी की, जिसके दौरान ये गिरफ्तारियाँ की गईं।

स्वतंत्र रूप से या प्रतिबंधित आतंकी समूह के स्लीपर सेल के रूप में काम कर रहे 10 लोगों की पहचान एसआईए द्वारा की गई जाँच में हुई।

अधिकारियों में से एक ने कहा, “जैश-ए-मोहम्मद ने अपने प्रत्येक मॉड्यूल को अलग-अलग भागों में बाँटा था, ताकि यदि कोई पूरा मॉड्यूल या फिर उसका कोई सदस्य पकड़ा जाता है तो दूसरा मॉड्यूल या अन्य ओवरग्राउंड वर्करों तक सुरक्षा एजेंसियाँ ना पहुँच सकें।”

गिरफ्तार किए गए लोग अन्य रसद सहायता प्रदान करने के अतिरिक्त दक्षिण और मध्य कश्मीर में युवाओं की भर्ती, वित्त की व्यवस्था और हथियारों के परिवहन में सक्रिय थे।

तलाशी के दौरान उनके पास से सेल फोन, सिम कार्ड, बैंकिंग चैनलों के उपयोग को दिखाने हेतु रिकॉर्ड और यहाँ तक ​​कि एक डमी पिस्तौल भी बरामद की गई। गिरफ्तार लोगों में एक व्यक्ति भी शामिल है, जिसके घर पर 4 अप्रैल 2020 को चार आतंकवादी मारे गए थे।

अधिकारियों ने कहा कि कथित ओजीडब्ल्यू का उद्देश्य दक्षिण और मध्य कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को आगे बढ़ाने की दिशा में काम करना था। वे ज्यादातर विद्यालय और कॉलेज जाने वाले विद्यार्थियों की भर्ती कर रहे थे क्योंकि उनमें से कुछ स्वयं विद्यार्थी हैं।

उनके पास से जब्त किए गए डिजिटल रिकॉर्ड को साक्ष्य विश्लेषण के लिए फोरेंसिक प्रयोगशाला में भेजा जा रहा है।