समाचार
पीएलआई योजना में सौर मॉड्यूल के लिए टाटा, रिलायंस, अडानी की बोलियाँ संभव- रिपोर्ट

केंद्र सरकार की उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना के अंतर्गत सौर मॉड्यूलों का अनुबंध प्राप्त करने हेतु टाटा पावर, रिलायंस इंडस्ट्रीज़, अडानी सोलर जैसी कंपनियाँ बोली लगाने वालों में सम्मिलित हो सकती हैं।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इससे पूर्व जून में सरकार द्वारा संचालित भारतीय अक्षय ऊर्जा विकास एजेंसी लिमिटेड (इरिडा) ने पीएलआई योजना के अंतर्गत सौर विनिर्माण इकाइयों की स्थापना के लिए बोलियाँ आमंत्रित की थीं।

सौर फोटो वोल्टाइक मॉड्यूल के लिए 4,500 करोड़ रुपये की पीएलआई योजना से भारत को अपनी घरेलू विनिर्माण क्षमता बढ़ाने में सहायता मिलेगी। साथ ही अपेक्षा की जा रही कि एकीकृत सौर पीवी विनिर्माण संयंत्रों की 10-गीगावाट (जीडब्ल्यू) क्षमता बढ़ेगी।

ईटी ने एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी के हवाले से कहा कि बड़ी कंपनियाँ दिलचस्पी दिखा रही हैं और अपेक्षा है कि वे शुरुआत से अंत तक सौर विनिर्माण के लिए प्रतिबद्ध होंगी। रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनियों ने योजना के लिए रविवार (19 सितंबर) तक लगभग 40 गीगावॉट की करीब 18 बोलियाँ जमा कर दी हैं।

एक अधिकारी के हवाले से कहा गया, “हम अधिकतम 10 गीगावॉट समायोजित कर सकते हैं। कई कंपनियाँ वेफर्स से लेकर मॉड्यूल तक की हमारी उम्मीदों के विपरीत पॉलीसिलिकॉन से मॉड्यूल तक पूरी तरह से एकीकृत संयंत्र स्थापित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।”

उच्च दक्षता वाले सौर पीवी मॉड्यूल के घरेलू निर्माण के लिए पीएलआई योजना को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अप्रैल में स्वीकृति दी थी। इस योजना से सौर पीवी निर्माण में लगभग 17,200 करोड़ रुपये का प्रत्यक्ष निवेश आने की अपेक्षा है।