समाचार
सर्वोच्च न्यायालय ने 5 फरवरी को होने वाली गेट 2022 परीक्षा स्थगित करने से किया मना

देश के कई हिस्सों में कोविड प्रतिबंधों को देखते हुए ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग परीक्षा (गेट) को स्थगित करने से सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को मना कर दिया। यह परीक्षा 5 फरवरी को होने वाली है।

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, सूर्यकांत और जस्टिस विक्रम नाथ की पीठ ने कहा कि निर्धारित परीक्षा से ठीक 48 घंटे पूर्व गेट को स्थगित करने से अराजकता और अनिश्चितता पैदा होगी। उन विद्यार्थियों के करियर के साथ खिलवाड़ नहीं किया जा सकता है, जिन्होंने इसकी तैयारी की है।

पीठ ने कहा कि यह अकादमिक नीति का मामला है कि परीक्षा कब होनी चाहिए और न्यायालय इस क्षेत्र में प्रवेश नहीं कर सकती है।

विशेष बात यह है कि नौ लाख विद्यार्थियों को परीक्षा में सम्मिलित होना है और लगभग 20,000 विद्यार्थियों ने परीक्षा स्थगित करने के लिए एक ऑनलाइन याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं।

पीठ ने कहा, “छात्रों ने इसके लिए तैयारी की है और न्यायालय परीक्षा स्थगित कर विद्यार्थियों के करियर के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकती है।” बुधवार को सर्वोच्च न्यायालय ने गेट को स्थगित करने की मांग वाली याचिका को सूचीबद्ध करने पर सहमति व्यक्त की थी।

परीक्षा स्थगित करने की याचिका में कहा गया कि 200 केंद्रों पर नौ लाख छात्र परीक्षा में सम्मिलित हो रहे हैं और अधिकारियों ने परीक्षा आयोजित करने के लिए कोई कोविड के दिशा-निर्देश भी जारी नहीं किए हैं।