समाचार
श्रीलंका वर्तमान में चल रहे ऊर्जा संकट से निपटने हेतु इंडियन ऑयल से ईंधन खरीदेगा

श्रीलंका ने वर्तमान ईंधन और ऊर्जा संकट से निपटने के लिए इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) से 40,000 मीट्रिक टन पेट्रोल और डीज़ल खरीदने के निर्णय लिया।

यह कदम विद्युत मंत्री गामिनी लोकुगे के कहने के बाद आया। उन्होंने कहा था कि श्रीलंका एक गंभीर विदेशी मुद्रा संकट के मध्य इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन की स्थानीय इकाई के साथ वार्ता करेगा। भारत की प्रमुख तेल कंपनी आईओसी श्रीलंका की सहायक कंपनी लंका आईओसी के साथ 2002 से काम कर रही है।

श्रीलंका कैबिनेट के बयान के मुताबिक, “ऊर्जा मंत्रालय ने आईओसी के साथ 40,000 मीट्रिक टन डीज़ल और 40,000 मीट्रिक टन पेट्रोल की खरीद पर चर्चा की। इसके बाद इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन भी 40,000 मीट्रिक टन डीज़ल की आपूर्ति करने हेतु सहमत हो गया।”

मंत्रियों के मंत्रिमंडल ने तेल की खेप खरीदने और उपाय करने के लिए ऊर्जा मंत्री द्वारा पेश किए गए प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी।

ऊर्जा मंत्री उदय गम्मनपिला ने आयात के लिए भुगतान करने में असमर्थता के कारण देश में ईंधन की कमी की भविष्यवाणी की थी। श्रीलंका वर्तमान में गिरते भंडार के साथ एक गंभीर विदेशी मुद्रा संकट का सामना कर रहा है।

आयात के भुगतान के लिए डॉलर की कमी के कारण देश लगभग सभी आवश्यक वस्तुओं की कमी से जूझ रहा है। राज्य ईंधन इकाई ने तेल की आपूर्ति बंद कर दी क्योंकि बिजली बोर्ड के पास बड़े अवैतनिक बिल हैं। एकमात्र रिफाइनरी को हाल ही में बंद कर दिया गया था क्योंकि वह कच्चे तेल के आयात के लिए डॉलर का भुगतान करने में असमर्थ थी।