समाचार
श्रीलंका ने आयात हेतु भारत से एक अरब डॉलर की अतिरिक्त ऋण सीमा मांगी- रिपोर्ट

श्रीलंका ने आवश्यक वस्तुओं के आयात हेतु भारत से एक अरब डॉलर की अतिरिक्त ऋण सीमा मांगी है।

घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने खुलासा किया कि नई दिल्ली नई ऋण सीमा के लिए कोलंबो के अनुरोध को पूरा करेगी।

इस राशि का उपयोग गेहूँ का आटा, दाल, दवाइयाँ, चीनी, चावल आदि वस्तुओं के आयात के लिए किया जाएगा।

श्रीलंका के वित्त मंत्री बेसिल राजपक्षे ने इस माह भारत की यात्रा की थी और द्वीप राष्ट्र के लिए महत्वपूर्ण आयात के भुगतान में सहायता करने हेतु 1 अरब डॉलर की ऋण सीमा पर हस्ताक्षर किए थे।

इस वर्ष की शुरुआत में भारत ने द्वीप राष्ट्र को उनकी ईंधन खरीद के लिए 40 करोड़ डॉलर मुद्राओं की अदला-बदली और 50 करोड़ डॉलर ऋण सीमा भी प्रदान की थी।

संकटग्रस्त देश को इस वर्ष के शेष दिनों में करीब चार अरब डॉलर का ऋण चुकाना है। इस वजह से श्रीलंका के वित्त मंत्री एक बचाव योजना पर अंतर-राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ वार्ता शुरू करने के लिए अप्रैल में वॉशिंगटन डीसी के लिए उड़ान भरेंगे।

इस बीच, श्रीलंका चीन से भी 2.5 अरब डॉलर की ऋण सहायता के लिए वार्ता कर रहा है। विदेश मंत्री ने सोमवार को कोलंबो में श्रीलंका के राष्ट्रपति गोतबया राजपक्षे से भेंट की और उन्हें भारत के निरंतर सहयोग का आश्वासन दिया।