समाचार
श्रीलंका सरकार ईशनिंदा पर पाक में मारे गए प्रियंता के परिवार को देगी ₹25 लाख

श्रीलंका सरकार ने मंगलवार को अपने देश के उस नागरिक के परिवार को 25 लाख रुपये का मुआवजा देने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी, जिसे गत सप्ताह पाकिस्तान के सियालकोट में ईशनिंदा के आरोपों में भीड़ द्वारा निर्दयता से मार दिया गया था।

डेली न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार, श्रीलंका के श्रम मंत्री द्वारा मारे गए प्रियंता कुमारा दियावदाना की पत्नी और बच्चों के कल्याण के लिए मानवीय आधार पर 25 लाख रुपये का अनुदान प्रदान करने का प्रस्ताव रखा था।

शुक्रवार (3 दिसंबर) को प्रियंता कुमारा दियावदाना (40 वर्ष) की हत्या कर दी गई और उनके शरीर को जला दिया था। कट्टर इस्लामी पार्टी के समर्थकों ने ईशनिंदा के आरोपों पर पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में एक कपड़ा कारखाने पर हमला किया था।

श्रीलंका के कैंडी के दियावदाना लाहौर से करीब 100 किलोमीटर दूर सियालकोट में कपड़ा कारखाने के महाप्रबंधक थे।

दियावदाना की हत्या तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के समर्थकों ने की थी, जो एक कट्टरपंथी इस्लामी पार्टी थी। इस पर पूर्व में प्रतिबंध लगा था।

कुमारा ने कथित तौर पर कट्टरपंथी टीएलपी का एक पोस्टर फाड़ दिया, जिसमें कुरान की आयतें लिखी थीं और उसे कूड़ेदान में फेंक दिया था। कुमारा के कार्यालय से लगी दीवार पर पोस्टर चिपका हुआ था। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक, फैक्ट्री के कुछ कर्मचारियों ने उसे पोस्टर हटाते हुए देख लिया और यह बात फैला दी थी।

ईशनिंदा की घटना से आक्रोशित सैकड़ों लोग फैक्ट्री के बाहर आसपास के क्षेत्रों से जमा होने लगे। उनमें से अधिकतर टीएलपी के कार्यकर्ता और समर्थक थे। सोशल मीडिया पर कई वीडियो प्रसारित हुए थे, जिसमें दिखाया गया कि श्रीलंकाई नागरिक के शव के आसपास सैकड़ों लोग जमा थे। वे टीएलपी के नारे लगा रहे थे।