समाचार
संयुक्त किसान मोर्चा ने स्वयं को किया निहंगों से पृथक्, कहा- “जाँच में देंगे पूरा सहयोग”

दिल्ली व हरियाणा के सिंघु सीमा पर पंजाब (तरनतारन) के युवक लखबीर सिंह की निर्मम हत्या का आरोप निहंगों पर लगा है, जो वहाँ कई दिनों से कृषि कानूनों के विरुद्ध किसानों के साथ प्रदर्शन कर रहे हैं। ऐसे में छवि खराब होने के भय से संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने स्वयं को उनसे पृथक् कर लिया है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त किसान मोर्चा के बड़े नेताओं ने जारी बयान में कहा कि वे हत्या के मामले की चल रही जाँच में पुलिस का पूरा सहयोग करने को तैयार हैं। लखबीर सिंह की हत्या की मोर्चा निंदा करता है। “इस घटना के दोनों पक्षों से हमारा कोई संबंध नहीं है।”

मोर्चा की ओर से कहा गया, “हम किसी भी धार्मिक ग्रंथ या प्रतीक के साथ अशिष्ट व्यवहार के विरुद्ध हैं। फिर भी इस आधार पर किसी भी व्यक्ति या समूह को कानून अपने हाथ में लेने की अनुमति नहीं देते हैं। इस हत्या और अशिष्ट व्यवहार के षड्यंत्र के आरोप की जाँच कर दोषियों को कानून के मुताबिक दंड दिया जाए।”

किसान मोर्चा के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि घटना के पीछे निहंग ही हैं। उन्होंने माना कि निहंग सिख शुरू से हमारे लिए समस्या खड़ी कर रहे हैं। आरोप है कि निहंगों ने युवक के हाथ-पैर काट दिए और पेट में भी तलवारों से हमला किया। उसके बाद उसके शव को बैरिकेड पर लटका दिया।