समाचार
सिंधिया ने भारत संग गठबंधन मजबूत करने हेतु यूएस एयरोस्पेस दिग्गजों से वार्ता की

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भारत में उद्योग के साथ सहयोग को और सशक्त करने के लिए अमेरिकी एयरोस्पेस दिग्गजों के साथ चर्चा की।

ज्योतिरादित्य सिंधिया उत्तरी अमेरिका की अपनी यात्रा के पहले चरण के लिए गुरुवार को न्यूयॉर्क पहुँचे। उन्होंने वहां स्थित प्रौद्योगिकी-संचालित वैश्विक वायु गतिशीलता मंच ब्लेड के साथ चर्चा करके अपने तय कार्यक्रम की शुरुआत की।

गुरुवार को उन्होंने न्यूयॉर्क के महावाणिज्य दूत रणधीर जायसवाल द्वारा आयोजित एक सत्र और स्वागत समारोह के दौरान भारतीय प्रवासियों के सदस्यों संग वार्ता भी की।

सिंधिया के कार्य शुक्रवार को यूएस-इंडिया बिज़नेस काउंसिल द्वारा आयोजित एक गोलमेज सम्मेलन के साथ शुरू हुए। इसमें उद्योग जगत के वरिष्ठ नेताओं ने भाग लिया, जिसमें विमानन क्षेत्र में भारत और अमेरिका के मध्य सहयोग को मजबूत करने के तौर-तरीकों पर ध्यान केंद्रित किया गया।

उन्होंने ट्वीट किया, “उड्डयन समुदाय से @यूएसआईबीसी के सदस्यों के साथ एक उपयोगी वार्ता हुई। भारत में क्षेत्रीय संयोजकता और शहरी हवाई गतिशीलता की ओर बढ़ते कदम और अवसरों के बारे में बात की।”

इसके बाद उन्होंने एयरोस्पेस में उपाध्यक्ष और रक्षा दिग्गज रेथियॉन टेक्नोलॉजीज़ के राजदूत पॉल जोन्स और अमेरिकी एयरोस्पेस निर्माता प्रैट एंड व्हिटनी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रिक डुरलू से भेंट की।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा भारतीय प्राथमिकी (उड़ान सूचना क्षेत्र) पर नौवहन सेवाएँ प्रदान करने के लिए संयुक्त रूप से विकसित एक अंतरिक्ष आधारित वृद्धि प्रणाली (एसबीएएस) जीपीएस एडेड जीईओ ऑगमेंटेड नेविगेशन का संदर्भ देते हुए सिंधिया ने ट्वीट किया, “भारत में नागरिक उड्डयन अवसंरचना पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ाने के लिए संभावित सहयोग पर चर्चा की, जिसमें एमआरओ स्थापित करना और हमारी गगन परियोजना को आगे बढ़ाना सम्मिलित है।”