समाचार
सर्वोच्च न्यायालय ने नुपुर शर्मा की 10 अगस्त तक गिरफ्तारी नहीं करने का दिया आदेश

सर्वोच्च न्यायालय ने पैगम्बर पर दिए गए बयान के मामले में नुपुर शर्मा की 10 अगस्त तक की गिरफ्तारी पर रोक लगाने का आदेश दिया। साथ ही उसी दिन मामले की अगली सुनवाई भी तय की।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र और उन राज्यों को नोटिस जारी किया, जहाँ उनके विरुद्ध मामले दर्ज किए गए। नोटिस में न्यायालय ने राज्यों और केंद्र सरकार से पूछा कि नुपुर शर्मा के विरुद्ध दर्ज मामलों को एक ही स्थान पर क्यों ना स्थानांतरित कर दिया जाए।

मामले की सुनवाई के दौरान न्यायालय ने कहा, “हम अपने पिछले आदेश में थोड़ा संशोधन करते हैं। हम यह नहीं चाहते कि आपको हर अदालत में जाना पड़े। हम आपके कानूनी विकल्पों को बरकरार रखना चाहते हैं।”

नुपुर शर्मा की याचिका में कहा गया था कि उनके विरुद्ध अलग-अलग स्थानों पर नौ प्राथमिकी दर्ज हैं। उन सभी को एक जगह स्थानांतरित किया जाए, ताकि अलग-अलग शहरों की यात्रा ना करनी पड़े।

नुपुर शर्मा के वकील ने कहा कि उनकी मुवक्किल की जान को खतरा है और कई जगहों से उन्हें मारने की धमकियाँ मिल रही हैं। पीठ ने मामले की सुनवाई के दौरान अजमेर दरगाह के खादिम सलमान चिश्ती के बयान का भी संज्ञान लिया, जिसमें उसने नूपुर की हत्या करने वाले को अपना घर देने की घोषणा की थी।