समाचार
एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया की पुनर्मूल्यांकन याचिका सर्वोच्च न्यायालय ने खारिज की

सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार (23 जुलाई) को भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया की एजीआर के पुनर्मूल्यांकन वाली याचिका को खारिज कर दिया। इसमें टाटा सर्विसेज़ भी सम्मिलित है। टेलीकॉम कंपनियों ने याचिका में बकाया एजीआर के हिसाब में त्रुटि होने की बात कही थी।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, न्यायाधीश एल नागेश्वर राव की अध्यक्षता वाली पीठ ने याचिका खारिज की। सर्वोच्च न्यायालय पहले ही कह चुकी है कि एजीआर मामले में कोई पुनर्मूल्यांकन नहीं होगा। इसके बाद वोडाफोन आइडिया के शेयरों में गिरावट देखी गई।

बता दें कि टेलीकॉम कंपनियों का कुल एजीआर बकाया 1.47 लाख करोड़ रुपये था। इसमें भारती एयरटेल पर 43,780 करोड़ रुपये और वोडाफोन आइडिया पर 58,000 करोड़ रुपये बकाया निकला था।

गत वर्ष सितंबर में न्यायालय ने टेलीकॉम कंपनियों को बकाया भुगतान के लिए 10 वर्ष का समय दिया था। इसका समय 1 अप्रैल 2021 से आरंभ हो चुका है। न्यायालय ने कहा था कि कंपनियों को 31 मार्च 2021 तक एजीआर बकाए के 10 प्रतिशत का भुगतान करना होगा। बाकी राशि हर वर्ष 7 फरवरी को एक किस्त के रूप में देनी पड़ेगी।