समाचार
सऊदी अरब नगदी संकट से जूझ रहे पाक को 3 अरब डॉलर की वित्तीय सहायता देगा

मीडिया रिपोर्ट्स ने बुधवार (27 अक्टूबर) को जानकारी दी कि सऊदी अरब ने नगदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को सुरक्षित जमा के रूप में 3 अरब डॉलर और आस्थगित भुगतान पर 1.2 अरब डॉलर व 1.5 अरब डॉलर मूल्य की तेल आपूर्ति करने पर सहमति जताई है।

डॉन अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, इस सप्ताह प्रधानमंत्री इमरान खान की सऊदी अरब की यात्रा के दौरान हुए समझौते के बारे में औपचारिक घोषणा वित्त और राजस्व पर प्रधानमंत्री के सलाहकार शौकत तारिन और ऊर्जा मंत्री हम्माद अज़हर द्वारा की जाएगी।

सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने सऊदी अरब सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सहायता की घोषणा करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “सऊदी अरब की घोषणा पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक में जमा के रूप में 3 अरब अमेरिकी डॉलर के साथ पाकिस्तान का समर्थन करती है और वर्ष के दौरान 1.2 अरब अमेरिकी डॉलर के साथ परिष्कृत पेट्रोलियम उत्पाद का वित्तपोषण भी करती है।”

रिपोर्ट में एक अधिकारी के हवाले से कहा गया कि सऊदी सरकार तत्काल एक वर्ष के लिए पाकिस्तान के खाते में 3 अरब डॉलर जमा करेगी और कम से कम अक्टूबर 2023 में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) कार्यक्रम के पूरा होने तक इसे चालू रखेगी।

पाकिस्तान और आईएमएफ ने जुलाई 2019 में 6 अरब डॉलर के सौदे पर हस्ताक्षर किए थे लेकिन यह कार्यक्रम जनवरी 2020 में पटरी से उतर गया और जून में फिर से पटरी से उतरने से पहले इस वर्ष मार्च में कुछ समय के लिए बहाल हो गया।

जून से अगस्त तक दोनों पक्षों के बीच कोई गंभीर चर्चा नहीं हुई। रिपोर्ट में कहा गया कि इसके अतिरिक्त, सऊदी सरकार प्रति वर्ष 1.5 अरब डॉलर तक के आस्थगित भुगतान पर इस्लामाबाद को कच्चा तेल उपलब्ध कराएगी।