व्यंग्य
व्यंग्य- किसानों की कर्ज़माफी के बाद जानें और किनको छूट दे सकते हैं राहुल गांधी

देश की भलाई के लिए दिन-रात चिंतनशील व विकास के लिए सतत रूप से कार्यरत राहुल गांधी अपने वादे के भी पक्के हैं। मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में सरकार आते ही उन्होंने किसानों की कर्ज़माफी की घोषणा भी कर दी। और इतना ही नहीं, धमकी भी दे दी कि जब तक देश भर के किसानों का कर्ज़ माफ नहीं होगा, वे प्रधानमंत्री मोदी को चैन से सोने नहीं देंगे। जब बात प्रधानमंत्री की नींद पर आ गई तो घबराई भाजपा ने भी असम में कर्ज़माफी की घोषणा कर दी।

इसके बाद देश के लोग कर्ज़माफी के लिए लार टपकाने लगे क्योंकि उनको पूरा विश्वास है कि किसानों के बाद अब उन्हीं की कर्ज़माफी होगी। जानें लोगों की कर्ज़माफी की अपेक्षाएँ और राहुल गांधी कैसे उन्हें पूरा करेंगे-

  1. क्रेडिट कार्ड पर कर्ज़माफी- बड़े शहरों में रह रहे शहरी गरीबों के पास अपनी गरीबी छुपाने के लिए क्रेडिट कार्ड के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता है। वे इस क्रेडिट कार्ड के बलबूते पर ब्रांडेड कपड़े खरीदकर महंगे रेस्तरां में भोजन करने जाते हैं। लेकिन अपनी आय से इस क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं भर पाते हैं। ऐसे में राहुल गांधी कुबेर देवता बनकर प्रकट होंगे व उनके क्रेडिट कार्ड की ऋण सीमा बढ़वाने के साथ-साथ पुराना हिसाब भी चुकता कर देंगे।
  2. नक्सलियों की कर्ज़माफी- नोटबंदी के बाद कमज़ोर पड़े नक्सली समर्पण करने के लिए विवश हो गए थे लेकिन राहुल गांधी की कर्ज़माफी योजना के बाद उनमें भी नई ऊर्जा का संचार हो गया है व उन्हें पूरा विश्वास है कि राहुल गांधी उनकी कर्ज़माफी करके उनकी हथियार खरीदने में सहायता करेंगे।
  3. हज के लिए कर्ज़माफी- इस साल की शुरुआत में हज यात्रा के लिए सब्सिडी बंद करने की घोषणा की गई थी जिसके कारण हमारे मुस्लिम भाई-बहनों को हज यात्रा के लिए कर्ज़ लेना पड़ रहा था। उनके प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए राहुल गांधी उनकी कर्ज़माफी का निर्णय भी ले सकते हैं।
  4. गृह ऋण से छूट- जिन सक्षम लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना की आवश्यकता नहीं है, उन्हें बैंकों से गृह लोन की आवश्यकता अवश्य पड़ती है। हिसाब लगाकर घर तो अच्छे से बनवा लेते हैं लेकिन इनसे घर का आंगन सूना नहीं देखा जाता जिसके कारण ये एक गाड़ी खरीद लेते हैं और ऋण चुकाने में असमर्थ हो जाते हैं। ऐसे लोगों को राहुल गांधी इस शर्त पर गृह लोन से मुक्त करेंगे कि वे घर के भीतर उनकी तस्वीर व घर की छत पर कांग्रेस का झंडा लगाएँ।
  5. भव्य विवाह करने पर कर्ज़माफी- अंबानी से प्रभावित होकर मध्यमवर्गीय लोग भी शादियों पर करोड़ों रुपए खर्च करने के लिए तत्पर हो गए हैं लेकिन उन्हें बजट प्रबंधन की चिंता सताने लगी है, ऐसे में राहुल गांधी उनकी नैया के खेवैया सिद्ध हो सकते हैं।
  6. मोबाइल डाटा पर छूट- टिंडर पर लड़की अथवा लड़के की अस्वीकृति हो या यू-ट्यूब पर वीडियो बफरिंग, इन असुविधाओं के लिए भी राहुल गांधी मोबाइल डाटा राशि भुगतान से छूट दिलवा सकते हैं।

यह व्यंग्य हलके मन से पढ़ने के लिए है व इसका उद्देश्य किसी का अपमान करना नहीं है। निष्ठा अनुश्री स्वराज्य में उप-संपादक हैं।