समाचार
सपा सांसद शफीकुर रहमान ने तालिबान की तुलना भारत के स्वतंत्रता सेनानियों से की

संभल से समाजवादी पार्टी (सपा) के सांसद डॉ शफीकुर रहमान बरक ने 16 अगस्त को एक बयान जारी कर अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे की तुलना भारत के स्वतंत्रता संग्राम से की।

उन्होंने कहा था कि तालिबान अपने देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ रहा है और यह अफगानिस्तान का आंतरिक मामला है। तालिबान ने सिर्फ उस भूमि पर कब्जा किया है, जो मूल रूप से उनकी थी।

डॉ शफीकुर रहमान बरक ने कहा, “जब भारत ब्रिटिश शासन के अधीन था तो हमारे देश ने स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी थी। अब तालिबान अपने देश को मुक्त करना और चलाना चाहता है। तालिबान एक ऐसी ताकत है, जिसने रूस और अमेरिका जैसे मजबूत देशों को भी अपने देश में बसने नहीं दिया था।”

इस विवादित बयान पर भाजपा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष राजेश सिंघल की शिकायत पर मंगलवार (17 अगस्त) देर रात सदर थाने में सपा सांसद के विरुद्ध धारा 124ए (देशद्रोह), 153ए (समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) और 295ए (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाना) के तहत मामला दर्ज किया गया।

सपा सांसद की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और सपा के नेताओं के मध्य कोई अंतर नहीं है। सपा कुछ भी कह सकती है।

इससे पूर्व, पीस पार्टी के प्रवक्ता शादाब चौहान ने भी तालिबान को अफगानिस्तान में सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण पर बधाई दी थी। इस पर भाजपा प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा था, ”चौहान का ट्वीट उनकी पीस पार्टी के रुख को दर्शाता है। हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं।”