समाचार
एस जयशंकर ने बाली में चीनी समकक्ष से भेंट की, सीमा विवाद के शेष मुद्दों पर हुई वार्ता

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार (7 जुलाई) को बाली में अपने चीनी समकक्ष वांग यी से वार्ता करते हुए पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ शेष सभी मुद्दों के शीघ्र समाधान की आवश्यकता से उनको अवगत करवाया।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, जी-20 देशों के विदेश मंत्रियों के एक सम्मेलन के इतर बाली में एक घंटे की बैठक में जयशंकर ने अपने चीनी समकक्ष से कहा कि द्विपक्षीय संबंध आपसी सम्मान, आपसी संवेदनशीलता और आपसी हित पर आधारित होने चाहिए।

एस जयशंकर और वांग के मध्य हुई वार्ता के बारे में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने एक प्रेसवार्ता में बताया, “आप की तरह मैं भी बैठक को बारीकी से देख रहा हूँ। हम उचित समय पर सूचना जारी करेंगे। कृपया बने रहें।”

उन्होंने कहा, “हमने जयशंकर की ब्रीफिंग की प्रासंगिक रिपोर्ट को भी नोट किया है। मैं बता सकता हूँ कि भारत-चीन सीमा क्षेत्र में समग्र स्थिति स्थिर है। दोनों पक्षों ने समानता और सुरक्षा के सिद्धांत के साथ हमारी सीमा के पश्चिमी क्षेत्र में प्रासंगिक मुद्दों को ठीक से हल करने के लिए संधियों व समझौतों के अनुसार आगे बढ़ने की बात कही है। चीन और भारत के पास अपने सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति व स्थिरता की रक्षा करने की क्षमता व इच्छा है।”

नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने कहा, ” एस जयशंकर ने द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल के पूरी तरह से पालन के महत्व की पुष्टि की और उनकी पिछली बातचीत में उनके और वांग के मध्य समझ बनी। विदेश मंत्री ने पूर्वी लद्दाख में एलएसी के साथ सभी शेष मुद्दों के जल्द समाधान का आह्वान किया। “