समाचार
रूस ने यूक्रेन पर आक्रमण करने के बाद पहली बार बॉन्ड ट्रेडिंग पुनः खोली

यूक्रेन पर आक्रमण करने के बाद रूस के केंद्रीय बैंक ने पहली बार मॉस्को एक्सचेंज पर कल बॉन्ड ट्रेडिंग पुनः खोली। रूस के रूबल-प्रभुत्व वाले सरकारी ऋण की कीमत में गिरावट देखी जा रही है और उधार लेने की लागत बढ़ रही है।

रूसी केंद्रीय बैंक ने मूल्यों का समर्थन करने के लिए बॉन्ड खरीदे। बाज़ारों को स्थिर करने और पश्चिमी प्रतिबंधों के असर को कम करने हेतु केंद्रीय बैंक ने वित्तीय लेन-देन पर कई प्रतिबंध लगाए हैं।

कई रेटिंग एजेंसियों ने रूस के बॉन्ड का जंग की स्थिति में दर्जा घटा दिया है। इस बीच, इस माह की शुरुआत में रूस विदेशी निवेशकों के एक और ब्याज भुगतान से चूक गया। अभी तक 30 दिनों की छूट अवधि है, जिसके बाद सरकार को डिफॉल्ट घोषित किया जा सकता है।

रूसी सरकार ने इस भुगतान को रूबल ऋण पर बॉन्ड धारकों को भेजने की बजाय एक सरकारी खजाने के खाते में भेज दिया। सरकार अपनी अधिकतर उधार आवश्यकताओं के लिए घरेलू रूसी बैंकों पर निर्भर है।

टास न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सरकारी ऋण का आरजीबीआई इंडेक्स 9.4 प्रतिशत गिरा। इसके परिणामस्वरूप 1-2 वर्ष की परिपक्वता वाले बॉन्ड पर प्रतिफल को 19.5 प्रतिशत और 10 साल की परिपक्वता के साथ 18.1 प्रतिशत तक बढ़ाया गया है।

अपनी वेबसाइट पर जारी बयान में केंद्रीय बैंक ने कहा कि उसके द्वारा खरीदे गए बॉन्डों को बाद में निपटाया जाएगा, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति को प्रभावित नहीं करता है।

शेयर बाज़ार अब भी बंद है और यह कब फिर से खुल सकता है, इस पर कुछ नहीं कहा जा सकता है। पिछली बार 25 फरवरी को शेयरों का कारोबार हुआ था।